पाकिस्तान खस्ताहाल विदेशी मुद्रा भंडार को बचाने के लिए चीन से Three Billion Dollars कर्ज की मांग करेगा

News Aroma Desk

नई दिल्ली: पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की अगले हफ्ते की चीन यात्रा के दौरान पाकिस्तान अपने विदेशी मुद्रा भंडार को बचाने के लिए चीन से तीन अरब डालर कर्ज के अलावा कम से कम छह परियोजनाओं में चीनी निवेश की पेशकश कर सकता है। समाचार पत्र एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने यह जानकारी दी है।

श्री खान इसके अलावा वित्त, व्यापार और निवेश के क्षेत्र में चीनी सहयोग की गुजारिश कर सकते हैं। वह तीन फरवरी को बीजिंग के लिए रवाना होंगे और वहां शीतकालीन ओलंपिक के उद्घाटन सत्र में भाग लेंगे।

वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सरकार चीन से तीन अरब डालर का एक और कर्ज दिए जाने का अनुरोध करेगी जिसे सेफ डिपॉजिट के रूप में जाना जाता है।

चीन पहले ही पाकिस्तान को वाणिज्यिक ऋण और विदेशी मुद्रा भंडार सहयोग की पहल के रूप में लगभग 11 अरब डॉलर प्रदान कर चुका है, जिसमें सेफ डिपाजिट में चार अरब डॉलर शामिल हैं।

वह चीनी धनराशि देश के मौजूदा आधिकारिक विदेशी मुद्रा भंडार का हिस्सा है जो 16.1 अरब डॉलर है।

पिछले वित्तीय वर्ष में, देश ने ऋण की अवधि पूरा होने के बाद केवल 4.5 अरब डॉलर की चीनी व्यापार वित्त सुविधा का उपयोग करने के लिए चीन को 26 अरब रुपये से अधिक का ब्याज भुगतान किया था।

पिछले महीने पाकिस्तान को सऊदी अरब से 3 अरब डॉलर का कर्ज भी मिला था, जिसका इस्तेमाल कर लिया गया है। पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार जनवरी 2021 तक गिरकर 16 बिलियन डॉलर रह गया है।

हमें Follow करें!

x