More
    Homeझारखंडआत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का रोडमेप जारी, दीनदयाल समितियां करेंगी निगरानी

    आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का रोडमेप जारी, दीनदयाल समितियां करेंगी निगरानी

    भोपाल : मध्य प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है जिसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के अभियान को अमलीजामा पहनाना शुरू कर दिया है।

    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को मिंटो हॉल में आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के विकास का रोडमैप-2023 जारी करते हुए ऐलान किया कि इस अभियान में जनभागीदारी और मॉनिटरिंग का काम दीनदयाल समितियां करेंगी।

    - Advertisement -

    इस मौके पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष और सांसद विष्णुदत्त शर्मा मौजूद रहे वहीं नीति आयोग के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अभिताभ कांत ने नई दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंस से जुड़े।

    आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के विकास का रोडमैप-2023 जारी करते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विकास में जनसहभागिता और मॉनीटरिंग की व्यवस्था का नया ढांचा खड़ा किया जायेगा।

    ग्राम, जनपद और जिला स्तर पर दीनदयाल समितियां गठित कर जनसहभागिता और मॉनिटरिंग सुनिश्चित की जायेगी। आधुनिक टेक्नोलॉजी का हर क्षेत्र में व्यापक उपयोग कर विकास कार्यों में पारदर्शिता बढ़ायी जायेगी।

    - Advertisement -

    खेती में आधुनिक ढंग से उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाकर खेती को लाभ का धंधा बनाया जायेगा। किसानों को पी.एम. सम्मान निधि और मुख्यमंत्री सम्मान निधि के रूप में हर साल कुल 10 हजार रुपए की सम्मान निधि दी जायेगी।

    मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत की रणनीति पर आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप जारी करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है।

    आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप में अधोसंरचना विकास, स्वास्थ्य एवं शिक्षा, अर्थव्यवस्था एवं रोजगार और सुशासन पर स्पष्ट रणनीति तैयार की गई है। इस रोडमैप के आधार पर मंत्री अपने विभागों की योजना तैयार कर क्रियान्वित करेंगे। मंत्री एवं प्रशासन के हर स्तर पर जिम्मेदारी तय की जायेगी और उसकी प्रत्येक स्तर पर सख्त मॉनीटरिंग होगी।

    मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि, आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश में रोजगार के माध्यम से अर्थव्यवस्था को सशक्त बनाना एक प्रमुख कार्य रहेगा। वोकल को लोकल बनाने का ध्येय है।

    स्थानीय उत्पाद को बिक्री से जोड़ा जाएगा। महिला सशक्तिकरण भी स्वदेशी वस्तुओं की बिक्री को प्रोत्साहन देते हुए बढ़ेगा। ग्रामीण महिलाओं के कौशल को निखार कर उनके व्यवसाय को लाभकारी बनाया जाएगा।

    इसी तरह सांस्कृतिक गतिविधियों से रोजगार वृद्धि के प्रयास होंगे। छोटे व्यापारियों को तकलीफ न हो, बड़े व्यापारी यदि बेईमानी करते हों, वे सावधान हो जाएं क्योंकि आम लोगों को परेशानी में डालने वाले छोड़े नहीं जाएंगे। अपराधी तत्व कुचल दिए जाएंगे।

    कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि सांसद वी.डी. शर्मा ने कहा कि, रोडमैप-2023 के विमोचन अवसर का यह कार्यक्रम अभिनव है क्योंकि इसमें प्रदेश के विकास के विजन को सामने रखते हुए ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर्स को लाभान्वित करने का महत्वपूर्ण कल्याणकारी यज्ञ भी पूरा हो रहा है। इस रोडमैप में एक विजन के दर्शन होते हैं। ये विकास का विजन है।

    नीति आयोग के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अभिताभ कांत ने नई दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से विशिष्ट अतिथि के रूप में भागीदारी करते हुए कहा कि, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत की रणनीति के अनुरूप मध्यप्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य है, जिसने विभिन्न विषय-विशेषज्ञों से परामर्श कर आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप तैयार किया है।

    इस रोडमैप को प्रदेशवासियों के सामने रखा गया है। जब सभी राज्य सिर्फ कोरोना से ही लड़ रहे थे, तब मध्यप्रदेश ने कोरोना से लोगों के बचाव के लिए अच्छे प्रबंध करते हुए प्रदेश के आर्थिक विकास के लिए यह रोडमैप तैयार करने का महत्वपूर्ण कार्य किया जो निश्चित ही प्रशंसनीय है।

    आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश रोडमैप-2023 के विमोचन अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने रोडमैप का विमोचन कर उसके क्रियान्वयन के लिये रोडमैप की प्रति मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस को सौंपी। इस अवसर पर अनेक मंत्री, विधायक, सांसद और अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

    Must Read