More
    Homeझारखंडतकनीक ने लोगों की अदालतों तक पहुंच बढ़ाई: CJI

    तकनीक ने लोगों की अदालतों तक पहुंच बढ़ाई: CJI

    अगरतला: प्रधान न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे ने बुधवार को कहा कि प्रौद्योगिकी ने लोगों को अदालतों और कानूनी प्रणाली, विशेष रूप से सुप्रीम कोर्ट और देशभर में हाईकोर्ट तक अधिक पहुंच बढ़ाई है।

    न्यायमूर्ति बोबडे ने त्रिपुरा हाईकोर्ट में ईसेवा केंद्र का उद्घाटन करने के बाद कहा कि इससे अदालत तक पहुंच सुनिश्चित होगी और कई समस्याएं खत्म होंगी।

    - Advertisement -

    इंग्लैंड में कानूनी सहायता प्रणाली का उल्लेख करते हुए, उन्होंने कहा कि कानून के इतिहास में खुलापन महत्वपूर्ण है।

    प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक मोड और प्रौद्योगिकी पर निर्भर न्याय प्रणाली न केवल कई समस्याओं को खत्म करेगी, बल्कि लोगों को अदालत तक बेहतर पहुंच भी प्रदान करेगी।

    उन्होंने कहा, हालांकि प्रौद्योगिकी की प्रगति संसाधनों पर निर्भर है, लेकिन ईसेवा केंद्र जैसी प्रणालियों से लोगों को कानूनी प्रणाली तक अधिक पहुंच प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

    - Advertisement -

    मुकदमों की स्थिति के संबंध में जानकारी प्राप्त करने और निर्णय और आदेशों की प्रतियों को प्राप्त करने जैसे कार्यों को सक्षम बनाने के लिए हाईकोर्ट में ई-सेवा केंद्र बनाए गए हैं। ये केंद्र मामलों की ई-फाइलिंग में भी सहायक हैं।

    बोबडे ने राज्य और उसके लोगों को सीमित संसाधनों के बावजूद 1971 के बांग्लादेश मुक्ति युद्ध के दौरान शरणार्थियों को आश्रय देने में मदद के लिए त्रिपुरा के लोगों की काफी सराहना भी की।

    उन्होंने त्रिपुरा के लोगों की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह दिखाता है कि संसाधन जीवन का एक माध्यमिक हिस्सा हैं। यह केवल लोगों का दिल और चरित्र है, जो लोगों की महानता को निर्धारित करता है। बोबडे ने त्रिपुरा के लोगों की महानता के अलावा उनके साहस और ²ढ़ विश्वास की भी सराहना की।

    त्रिपुरा की समृद्ध संस्कृति और इतिहास का उल्लेख करते हुए, उन्होंने कहा कि गुरुदेव (रवींद्रनाथ टैगोर) ने अपना काफी समय त्रिपुरा में बिताया और दो महान संगीतकार (सचिन देव बर्मन और उनके बेटे राहुल देव बर्मन) त्रिपुरा से ही संबंध रखते हैं।

    त्रिपुरा हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अकील कुरैशी ने भी हाईकोर्ट में ईसेवा केंद्र के उद्घाटन के संबंध में आयोजित समारोह को संबोधित किया। इस दौरान न्यायमूर्ति सुभाषीश तालपात्रा और न्यायमूर्ति सत्य गोपाल चट्टोपाध्याय सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित रहे।

    सीजीआई ने दक्षिणी त्रिपुरा के उदयपुर में प्रसिद्ध 520 वर्ष पुराने त्रिपुरा सुंदरी मंदिर का भी दौरा किया।

    Must Read