भारत

पीयूष गोयल ने 88 रेल परियोजनाओं का किया शुभारंभ

नई दिल्‍ली: रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से केरल, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश और कर्नाटक में विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर बुनियादी सुविधाओं की परियोजनाओं, यात्री सुविधाओं से संबंधित परियोजनाओं का उद्घाटन किया।

राष्‍ट्र को समर्पित 1000 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य की इन 88 रेलवे परियोजनाओं से भारतीय रेलवे भविष्य के लिए तैयार होगा।

केरल में रेल परियोजनाओं का उद्घाटन करते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि राज्य में कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने के लिए महत्वपूर्ण है।

हम केरल को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने की सुविधाओं को बढ़ावा देते हैं। केरल के लिए आवंटित किया जा रहा बजट लगातार साल दर साल बढ़ता जा रहा है।

उन्होंने कहा कि हम आने वाले दिनों और महीनों में केरल में एक जीवंत रेलवे नेटवर्क रखने के लिए प्रतिबद्ध है।

तमिलनाडु में रेल परियोजनाओं का उद्घाटन करते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि हम तमिलनाडु रेलवे को पूरी तरह से विद्युतीकृत नेटवर्क बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं, ताकि रेलवे के कारण कोई प्रदूषण न हो।

हमने पिछले 6-7 वर्षों में विद्युतीकरण की गति को दोगुना कर दिया है।

अगले ढाई सालों में राज्य के पूरे रेल नेटवर्क का विद्युतीकरण किया जाएगा।

हम पहले वर्टिकल ब्रिज, पम्बन ब्रिज का भी निर्माण कर रहे हैं, जो राम सेतु को जोड़ेगा और उस क्षेत्र में रामेश्वरम और धनुषकोडि आने वाले तीर्थयात्रियों को आसानी से पहुंचाएगा।

कर्नाटक में रेल परियोजनाओं का उद्घाटन करते हुए पीयूष गोयल ने अपने सहयोगी रहे स्‍वर्गीय रेल राज्‍य मंत्री सुरेश अंगड़ी के रेलवे और कर्नाटक राज्य के लिए किए गए अनुकरणीय कार्यों के लिए याद किया।

उन्‍होंने कहा कि आज, गुब्बी से नित्तूर तक ट्रैक का दोहरीकरण, जबकि यह एक छोटे से खिंचाव की तरह लग सकता है, यह बेंगुलुरु-हुबली लाइन पर अर्सिकेरे से तुमकुरु तक रेलवे लाइन को दोगुना करने के लिए एक बड़ी दृष्टि का एक हिस्सा है।

लोंडा और मिराज 186 किमी परियोजना के बीच की बड़ी परियोजना अगले दो वर्षों में पूरी हो जाएगी।

उन्होंने कहा कि रायबाग रेलवे स्टेशन भी सुविधाओं के साथ प्रदान किया गया है और इन सभी परियोजनाओं को एक साथ रखा गया है जो कर्नाटक की प्रगति और अर्थव्यवस्था के विकास के लिए एक उत्प्रेरक प्रदान करेगा।

कर्नाटक में कई अन्य परियोजनाएं सुविधाओं में सुधार लाने और भारतीय रेलवे का उपयोग करने वाले सभी यात्रियों के लिए बहुत अच्छा और सुखद अनुभव सुनिश्चित करने के लिए की जा रही हैं।

उपनगरीय रेलवे के साथ बेंगलुरु की मेट्रो सेवाओं का एकीकरण सहज परिवहन प्रदान करने की कोशिश की जा रही है।

मध्यप्रदेश में रेल परियोजनाओं का उद्घाटन करते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि 2009 से 2014 के बीच औसतन 632 करोड़ रुपये मध्य प्रदेश और यहां से गुजरने वाली लाइनों पर निवेश होता था।

इस वर्ष के बजट में लगभग 7,700 करोड़ का आवंटन यहां से गुजरने वाली और यहां स्थित रेलवे परियोजनाओं में किया गया है।

उन्‍होंने कहा क‍ि राज्य और केंद्र की डबल इंजन की सरकार के साथ भारतीय रेल का तीसरा इंजन मध्य प्रदेश के नागरिकों की सेवा में कार्य कर रहा है।

गोयल ने क‍हा क‍ि रीवा में एक बहुत बड़ा सौर ऊर्जा का बहुत बड़ा प्रोजेक्ट आने जा रहा है। भारतीय रेल ने भी दिसंबर 2023 तक हम पूर्ण रूप से भारतीय रेल को शत प्रतिशत इलेक्ट्रिफाई कर देंगे।

2030 तक हम शत प्रतिशत नवीकरणीय ऊर्जा से रेल की पूरी व्यवस्था को चलाने का काम कर रहे हैं।

पर्यावरण की चिंता कैसे की जाये, यह विश्व में इसका उदाहरण बनेगी।

उन्‍होंने कहा क‍ि अनेक ट्रेन एचएचबी कोच से रिप्लेस हो रही हैं। मार्च 2019 के बाद एक भी यात्री की मृत्यु ट्रेन दुर्घटना में नही हुई है। रेलवे देश की अर्थव्यवस्था को गति दे, उसमें अपना योगदान दे, इसके लिये हम प्रतिबद्ध हैं।

रेलवे में 2009 से 2014 के बीच 40-45 हजार करोड़ निवेश औसतन होता था। इस वर्ष वह 5 गुना बढाकर 2 लाख 15 हजार करोड़ किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button