क्राइमझारखंड

झारखंड में यहां प्रेमिका ने शादी का बनाया दबाव तो गला दबाकर ले ली जान, जंगल में मिली थी 21 साल की युवती की लाश

चाईबासा: जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के बुड़ाकमान रास्ते के डकुवा जंगल में हफ्ते भर पहले मिली 21 साल की युवती की लाश की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है।

मृतका का मोबाइल नंबर प्राप्त कर तकनीकी सेल की मदद से पुलिस ने हत्या के आरोपी प्रेमी शंभू बोबोंगा (23) को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

वहीं, उसने हत्या की बात भी स्वीकार कर ली है।

जगन्नाथपुर एसडीपीओ प्रदीप उरांव ने बताया कि मृतका पार्वती लागुरी के परिजनाें द्वारा शव की पहचान करने के बाद शव को दाह संस्कार हेतु उनके सुपुर्द कर दिया गया।

अभियुक्त की निशानदेही पर पुलिस द्वारा घटनास्थल के आसपास के जंगल में हत्या बाद छुपाए गए मृतका के आधार कार्ड एवं पासबुक को बरामद कर लिया।

साथ ही उसके घर से घटना में प्रयुक्त बाइक बाइक को भी जब्त कर लिया गया।

क्या है मामला

पूछताछ में आराेपी ने बताया कि वह वर्ष 2016 से पार्वती लागुरी से प्रेम करता था, लेकिन जब वह किसी दूसरी लड़की से बातचीत करता था, तो पार्वती उसके साथ गाली गलौज करने लगती थी।

कहती थी कि दूसरी लड़की से क्यों बात करते हो। पार्वती उससे शादी करना चाहती थी, पर वह उससे शादी नहीं करना चाहता था ।

वह बराबर शादी करने का दबाव बनाती थी और बोलती थी कि मुझसे शादी नहीं करोगे, तो तुम्हें झूठे केस में फंसा दूंगी। उसने गुस्से में पार्वती काे रास्ते से हटाने की रणनीति तैयार की।

हत्या कर शव गड्ढे में ही छोड़कर भागा

सुनियोजित तरीके से पांच फरवरी की शाम पार्वती काे फोन कर तोड़ांगहातु रेलवे क्रॉसिंग के पास बुलाया और वहां से बाइक पर बैठाकर शाम में बूढ़ाकमान जानेवाले रास्ता में जंगल के किनारे ले जाकर दुपट्टा से पार्वती का गला घाेंटने का प्रयास करने लगा, ताे वह खुद काे चंगुल से छुड़ाकर भागने लगी और पास के ही ट्रेंच (गड्ढे) में गिर गई।

इसके बाद उसने पार्वती काे लात-घूंसा से मारकर जख्मी कर दिया और दोनों हाथों से गला दबाकर हत्या कर ने के बाद शव को उसी गड्ढे में ही छोड़कर भाग गया।

हत्या करने का नहीं है मलाल

प्रेमिका की हत्या के आराेपी प्रेमी ने पुलिस को बताया कि पहले पार्वती के साथ जंगल में बातचीत की, फिर बकझक हुई।

विवाद बढ़ा ताे उसी के दुपट्टे काे उसके गर्दन में बांध कर हत्या करने की कोशिश की, लेकिन बचने के क्रम में एक गड्डे में गिर गई।

फिर उसने सोचा कि यदि वह बच जाती, ताे हत्या के प्रयास का केस चलेगा, इसलिए उसे मार डालना ही ठीक है।

ऐसे में साक्ष्य नहीं मिलेगा। इसलि उसने प्रेमिका काे मार डाला। प्रेमिका से छुटकारा मिल गया, ताे जेल में रहना ही ठीक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button