More

    अमेरिका के स्वास्थ्य विशेषज्ञ ने भारत में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लगाने की दी सलाह

    वाशिंगटन: अमेरिका के शीर्ष स्वास्थ्य विशेषज्ञ और व्हाइट हाउस के मुख्य चिकित्सा सलाहकार डॉ. एंथनी फाउची ने भारत में कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते मामलों पर चिंता जताई है।

    उन्होंने कहा भारत में बहुत तेजी से कोरोना का संक्रमण फैल रहा है। महामारी की गति को रोकने के लिए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू किया जाना चाहिए।

    इसके साथ ही व्यापक स्तर पर टीकाकरण की मुहिम चलाई जानी चाहिए और बड़ी संख्या में अस्थाई अस्पताल बनाए जाने चाहिए।

    - Advertisement -

    दुनिया में संक्रामक रोग के शीर्ष विशेषज्ञों में से एक माने जाने वाले डॉ. फाउची ने एक साक्षात्कार के दौरान भारत को महामारी से निपटने में सैन्य बलों की मदद लेने का सुझाव दिया।

    उन्होंने कहा कि तत्काल अस्थाई अस्पताल बनाने में सशस्त्र बलों की सहायता ली जा सकती है।

    - Advertisement -

    डॉ. फाउची ने कहा चीन में जब पिछले साल गंभीर समस्या थी, तो उसने अपनी संसाधनों को बहुत तेजी से नए अस्पताल बनाने में लगा दिया था।

    ऐसा करके वह गंभीर रोगियों के लिए चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराने में सफल हुआ था।

    उन्होंने कहा इस समय भारत के अस्पताल में बिस्तरों की भारी कमी है। अस्थायी व्यवस्थाओं में कोरोना से संक्रमित मरीजों की देखभाल की जा रही है।

    - Advertisement -

    डॉ. फाउची ने सुझाव दिया कि भारत को अपनी सेना की मदद से उसी तरह फील्ड अस्पताल बनाने चाहिए, जैसे कि युद्ध के दौरान बनाए जाते हैं, ताकि उन लोगों को अस्पताल में बिस्तर मिल सके, जो बीमार हैं और जिन्हें भर्ती किए जाने की आवश्यकता है।

    उन्होंने कहा भारत सरकार संभवत: यह पहले ही कर रही है। उन्होंने कहा यह साफ है कि भारत में हालात बेहद गंभीर हैं।

    डॉ. फाउची ने कहा, जब लोग इतनी बड़ी संख्या में संक्रमित हो रहे हों, हर किसी की पर्याप्त देखभाल न हो पा रही हो, अस्पतालों में बिस्तरों, ऑक्सीजन और अन्य चिकित्सा सामग्री की बेहद कमी हो, तो यह बेहद निराशाजनक स्थिति बन जाती है।

    इसे देखते हुए हमें लगता है कि पूरी दुनिया को हरंसभव तरीके से मदद करनी चाहिए।

    उन्होंने कहा कुछ ऐसी चीजें है, जो भारत तत्काल, मध्यम अवधि और दीर्घ अवधि में कर सकता है।

    डॉ. फाउची ने कहा सबसे पहले उन्हें ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीका लगाना चाहिए, चाहे वे उनके द्वारा विकसित टीके हों या रूस और अमेरिका जैसे अन्य आपूर्तिकर्ताओं से खरीदे गए टीके हों।

    spot_imgspot_img
    spot_img

    Get in Touch

    62,437FansLike
    86FollowersFollow
    0SubscribersSubscribe

    Latest Posts

    1