सरकार से नाराज पारा शिक्षक राज्य के सभी सांसदों और विधायकों को सौंपेंगे मांगपत्र

हेमंत सोरेन सरकार के 29 दिसंबर 2021 को दो वर्ष पूरे होने पर रांची स्थित मोरहाबादी के जो कार्यक्रम निर्धारित हैं

लातेहार : राज्य सरकार द्वारा वेतनमान लागू करने में की जा रही देरी से पारा शिक्षकों में नाराजगी है।

इस कारण पारा शिक्षकों ने राज्य के सभी सांसदों और विधायकों को 13 और 14 दिसंबर 2021 को मांगपत्र सौंपने का फैसला किया है।

एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के लातेहार जिला अध्यक्ष अतुल कुमार और महासचिव अनूप कुमार ने कहा है कि प्रदेश नेतृत्व के निर्देशानुसार यह फैसला किया गया है।

उन्होंने कहा कि इसके तहत मनिका विधान सभा क्षेत्र के विधायक रामचंद्र सिंह को मनिका, बरवाडीह गारू और महुआडांड़ की कमिटी और पारा शिक्षकों द्वारा मांगपत्र सौंपा जायेगा।

वहीं, सदर लातेहार के सांसद और विधायक को बालूमाथ, बरियातू, हेरहंज, चंदवा और सदर लातेहार की कमिटी और पारा शिक्षकों द्वारा मांगपत्र दिया जायेगा।

उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन सरकार के 29 दिसंबर 2021 को दो वर्ष पूरे होने पर रांची स्थित मोरहाबादी के जो कार्यक्रम निर्धारित हैं, उनमें भाग लेने लातेहार के 1550 और पूरे प्रदेश के लगभग 65 हजार पारा शिक्षक फूलमाला लेकर मुख्यमंत्री के भाषण में वेतनमान देने की घोषणा करने पर स्वागत करेंगे। लेकिन, अगर मुख्यमंत्री ऐसी कोई घोषणा नहीं करते हैं, तो उसी सभा में उनका प्रतिकार किया जायेगा।

उन्होंने कहा, “हेमंत सोरेन ने जो वादा किया था, उसे पूरा करके 65 हजार पारा शिक्षकों की वर्षों पुरानी मांग को पूरा करें, ये हम सभी मूल निवासी पारा शिक्षकों का विनम्र निवेदन है।”

अतुल कुमार और अनूप कुमार ने एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा लातेहार संगठन के चुनाव के तीसरे चरण की तिथि भी घोषित कर दी है। उन्होंने बताया कि 11 दिसंबर 2021 को चंदवा चुनाव होगा।

यह चुनाव पर्यवेक्षक शेखर यादव, पवन यादव और कुमार संजय सिंह की देखरेख में होगा।

वहीं, 12 दिसंबर को सदर लातेहार का चुनाव होगा। यहां यह चुनाव समोधी यादव, सत्यनारायण ठाकुर और बेलाल अहमद की देखरेख में होगा।

इसके अलावा 19 दिसंबर को जिला कमिटी का चुनाव होगा। इसमें प्रदेश अध्यक्ष पर्यवेक्षक की नियुक्ति करेंगे। इस चुनाव में मुख्य अतिथि प्रदेश अध्यक्ष ऋषिकेश पाठक उपस्थित रहेंगे।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button