भारत

मेहुल पर काम नहीं आई चौकसी खाली हाथ ही डोमिनिका से उड़ा भारतीय विमान

नई दिल्ली: भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए पिछले सप्ताह दस्तावेंजों के साथ डोमिनिका गया भारत का प्राइवेट विमान अब खाली हाथ ही वहां से उड़ान भर चुका है।

इस मामले से परिचित लोगों ने जानकारी दी कि पिछले हफ्ते भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण से जुड़े दस्तावेजों के साथ डोमिनिका भेजे गए प्राइवेट विमान ने गुरुवार को रात 8:10 बजे (स्थानीय समयानुसार) द्वीप (डोमिनिका) से उड़ान भरी।

हालांकि, उसके डेस्टिनेशन के बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई है कि विमान कहां गया है।

बता दें कि पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) धोखाधड़ी मामले में वांछित चोकसी फिलहाल पुलिस की निगरानी में डोमिनिका-चाइना फ्रेंडशिप अस्पताल में है। मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने कहा कि दस्तावेजों के साथ डोमिनिका गई भारतीय टीम भी लौटी है या नहीं, इसका पता नहीं चल पाया है।

इतना ही नहीं, उड़ान के गंतव्य का भी पता नहीं चल पाया है कि आखिर विमान ने कहां के लिए उड़ान भरी है।

हालांकि, इतना तय है कि विमान डोमिनिका छोड़ चुका है।

बता दें कि भारत में जन्मे मेहुल चोकसी ने एंटीगुआ की नागरिकता ले ली है। 23 मई को वह डोमिनिका में पकड़ा गया था।

उसके ऊपर अवैध तरीके से डोमिनिका में प्रवेश करने का आरोप है और इस मामले की कोर्ट में सुनवाई भी हो रही है।

एंटीगुआ और बारबुडा के प्रधानमंत्री गेस्टन ब्राउन ने पिछले सप्ताह कहा था कि कतर एयरवेज का एक निजी विमान डोमिनिका में 29 मई को डगलस-चार्ल्स हवाई अड्डे पर उतरा।

जिसके बाद चोकसी के प्रत्यर्पण को लेकर अटकलें लगने लगीं। ब्राउन ने अपने देश में एक रेडियो शो में यह भी बताया कि चोकसी ने एंटीगुआ छोड़ दिया होगा और डोमिनिका में अपनी प्रेमिका के साथ रात का खाना खाने या अच्छा समय बिताने के लिए नाव की सवारी की होगी।

ब्राउन ने यह बी कहा कि एंटीगुआ और बारबुडा से रहस्यमयी परिस्थितियों में लापता हुए चोकसी को पड़ोस के डोमिनिका में पकड़ा गया।

ब्राउन ने रेडिशा शो में बताया कि चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए जरूरी दस्तावेज लेकर विमान भारत से आया है।

कतर की एक्जीक्यूटिव उड़ान ए7सीईई के सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक इस विमान ने 28 मई को तड़के तीन बजकर 44 मिनट पर दिल्ली हवाई अड्डे से उड़ान भरी और उसी दिन स्थानीय समयानुसार दिन में एक बजकर 16 मिनट पर डोमिनिका पहुंचा।

हालांकि, चोकसी ने आरोप लगाया है कि एंटीगुआ और भारतीय की तरह दिखने वाले पुलिसकर्मियों ने उसे एंटीगुआ और बारबुडा में जॉली बंदरगाह से अगवा किया और उसे डोमिनिका ले गए।

इधर, गुरुवार को कोर्ट ने मेहुल चोकसी की जमानत अर्जी खारिज कर दी और उसे करीब दो सप्ताह के लिए पुलिस कस्टडी में भेज दिया।

वहीं, डोमिनिका के उच्च न्यायालय ने हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी की ओर से दाखिल बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर सुनवाई बृहस्पतिवार को स्थगित कर दी।

स्थानीय मीडिया प्रतिष्ठान एंटीगुआ न्यूज रूम ने बताया कि न्यायमूर्ति बर्नी स्टीफेंसन दोनों पक्षों को सुनने के बाद मामले में अगली सुनवाई की तारीख तय करेंगे। भारत सरकार के अधिकारी चोकसी के प्रत्यर्पण की पूरी कोशिश कर रहे हैं।

चोकसी ने 2017 में एंटीगुआ एंड बारबुडा की नागरिकता ली थी और जनवरी 2018 के पहले हफ्ते में भारत से भाग गया था। इसके बाद ही यह घोटाला सामने आया था। मेहुल सीबीआई जांच का सामना कर रहा है।

Back to top button