भाजपा के मंत्री सेक्स वीडियो में महिला के साथ आए नजर, दिया इस्तीफा

बेंगलुरु: एक सेक्स वीडियो वायरल होने के बाद कर्नाटक की राजनीति में बवाल मचा हुआ है। इस सेक्स वीडियो में कर्नाटक के जल संसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली के एक महिला के साथ नजर आने का दावा किया गया है। इन आरोपाें के बाद कर्नाटक के जल संसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली ने बुधवार दोपहर को अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

दरअसल, सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश कल्लाहल्ली ने सीडी जारी करते हुए आरोप लगाया था कि मंत्री रमेश जारकीहोली ने नौकरी दिलाने के नाम पर एक महिला का यौन शोषण किया।

इसके बाद जारकोली ने मंत्री पद से इस्तीफा देकर कहा कि वे जांच में निर्दोष साबित होंगे। पांच राज्यों के आगामी आम चुनावों में उनकी पार्टी को शर्मिंदगी से न गुजरना पड़े, इसलिए उन्होंने मंत्री पद से इस्तीफा दिया है। उन्होंने दावा किया कि जांच के बाद क्लीन चिट मिलने पर वह मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा से कैबिनेट में जगह देने का अनुरोध करेंगे।

क्या है मामला 

सामाजिक कार्यकर्ता और नागरिक हक्कू होरता समिति के अध्यक्ष दिनेश कल्लाहल्ली ने बताया कि महिला के परिजनों ने न्याय की मांग को लेकर उनसे संपर्क किया।

महिला के परिजनों ने आरोप लगाया है कि मंत्री ने कर्नाटक पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (केपीटीसीएल) में महिला को नौकरी दिलाने के नाम पर उसका यौन उत्पीड़न किया।

मंत्री बाद में अपने वादे से मुकर गए। दिनेश कल्लाहल्ली ने सीडी के मामले में पुलिस कमिश्नर कमल पंत से मंगलवार को मुलाकात की, जहां उन्हें कब्बन पार्क पुलिस के पास शिकायत दर्ज करने के लिए कहा गया है।

कल्लाहल्ली ने कहा, ”मैं इस सिलसिले में वकील से मिला। वकील ने पुलिस कमिश्नर से मिलने की सलाह दी और सीडी उन्हें सौंपने को कहा है। हम चाहते हैं कि इस मामले की सच्चाई सामने आए।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा, शर्मनाक

इस मामले पर केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा, ”हम किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच सकते, हमें सच्चाई जानने की जरूरत है। अगर यह सच है, तो यह शर्मनाक है। हम नेताओं को नैतिक रूप से सही होने की जरूरत है। यही भाजपा की नीति है।”

सीडी के सामने आने के बाद कांग्रेस ने मंत्री रमेश जारकीहोली के इस्तीफे की मांग को लेकर बेंगलुरु में धरना प्रदर्शन किया था।

कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा था कि मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को तत्काल प्रभाव से रमेश जारकीहोली का इस्तीफा लेना चाहिए और इस मामले में एफआईआर दर्ज करानी चाहिए।

कर्नाटक के डिप्टी सीएम सीएन अश्वथ नारायण ने कहा, ”हमने साजिश के तहत ऐसे वीडियो बनाकर हनीट्रैप और ब्लैकमेलिंग के कई मामलों को देखा है। जांच के बाद सच सामने आएगा। उसके बाद कार्रवाई होगी।”

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button