रांची के इस अस्पताल में ब्लैक फंगस से हुई आज एक और मौत,10 से अधिक मरीजों का मेडिका और रिम्स में चल रहा इलाज

रांची: झारखंड में भी ब्लैक फंगस जानलेवा होता जा रहा है। रविवार को राजधानी रांची के राज अस्पताल में ब्लैक फंगस से हिमांशु शेखर मिश्रा की मौत हो गई।

इसके पूर्व मेडिका अस्पताल में एक मरीज और रिम्स में दो मरीजों की मौत ब्लैक फंगस से हो चुकी है।

कुल मिलाकर अब तक राज्य में चार लोगों की मौत ब्लैक फंगस से हो चुकी है।

वहीं, राजधानी के पीस रोड के रहने वाले राणा गोराई की मौत इलाज के दौरान शनिवार को रिम्स में ब्लैक फंगस से मौत हुई थी।

उल्लेखनीय है कि राज्य में ब्लैक फंगस के अब तक लगभग 10 से अधिक मरीज मिले हैं।

इनमें कुछ मरीजों का इलाज मेडिका और रिम्स में चल रहा है।

RAJ HOSPITAL - 1st Hospital in India where a person can be evacuated from  any floor within a while. " provision of Helipad". | Hospital,  Architecture, Building

झारखंड में ब्लैक फंगस के अबतक पांच मरीजों की

झारखंड में ब्लैक फंगस के अबतक पांच मरीजों की जान जा चुकी है। बता दें कि रिम्स में ब्लैक फंगस से दो मौत हुई है।

बताया जाता है कि रिम्स में शनिवार को रांची के पीस रोड निवासी राणा गोराई की मौत ब्लैक फंगस के संक्रमण से हो गई। उसे तीन दिन पहले रिम्स में भर्ती कराया गया था।

इससे पहले वह कोरोना संक्रमित था, लेकिन रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उसे अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी।

बाद में तबीयत बिगड़ने पर उसने मेडिका में जांच कराई, जिसमें ब्लैक फंगस के संक्रमण की पुष्टि हुई। इसके बाद उसे रिम्स में भर्ती कराया गया था। इस दौरान उसकी एक आंख की रोशनी चली गई थी।

रिम्स क्रिटिकल केयर के इंचार्ज ने बताया कि ब्लैक फंगस से रिम्स में यह दूसरी मौत है।

वहीं, रिम्स के डा. डीके सिंह ने बताया कि शुक्रवार तक ब्लैक फंगस के चार मरीज भर्ती थे।

वहीं, मेडिका में पांच मरीज भर्ती हैं। रांची के मेडिका तथा धनबाद के एक अस्पताल में भी एक एक मरीजों की मौत पहले हो चुकी है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button