अमेरिका में CDC ने कोरोना वायरस के डेल्टा स्वरूप को चिंताजनक श्रेणी में डाला

डॉ एंथनी फाउची ने आगाह किया था कि कोरोना का डेल्टा स्वरूप बहुत अधिक संक्रामक है

वाशिंगटन: ब्रिटेन के वैज्ञानिकों द्वारा पहले ही भारत में पाये गये कोरोना के डेल्टा स्वरूप को चिंताजमक बया जा चुका है। अब अमेरिका के रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र (CDC) ने कोरोना के डेल्टा स्वरूप को चिंताजनक बताया है।

सीडीसी ने कहा, अमेरिका में पाए जा रहे वायरस के स्वरूप बी.1.1.7 (अल्फा), बी.1.351 (बीटा), पी.1 (गामा), बी.1.427 (एप्सिलन), बी.1.429 (एप्सिलन) और बी.1.617.2 (डेल्टा) चिंता का विषय हैं।

उसने कहा कि डेल्टा स्वरूप में प्रसार क्षमता अधिक है।

वायरस के किसी भी स्वरूप को चिंताजनक तब बताया जाता है जब वैज्ञानिक मानते हैं कि वह अधिक संक्रामक है तथा गंभीर रूप से बीमार कर सकता है। इससे पहले सीडीसी ने डेल्टा स्वरूप के बारे में कहा था कि इस स्वरूप के बारे में और अनुसंधान की जरूरत है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 10 मई को डेल्टा को चिंताजनक स्वरूप बताया था।

सीडीसी के अनुमान के मुताबिक, पांच जून तक अमेरिका में संक्रमण के मामलों में से 9.9 फीसदी के पीछे वजह डेल्टा स्वरूप था।

वायरस के स्वरूपों पर नजर रखने वाली वेबसाइट आउटब्रेक डॉट इन्फो के अनुसार, 13 जून तक डेल्टा स्वरूप के मामले 10.3 फीसदी हो गए।

सीएनएन की एक रिपोर्ट में आगाह किया गया है कि महीने भर के भीतर अमेरिका में डेल्टा स्वरूप सबसे प्रभावशाली स्वरूप बन सकता है।

पिछले हफ्ते अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और उनके मुख्य सलाहकार डॉ एंथनी फाउची ने आगाह किया था कि नोवेल कोरोना वायरस का डेल्टा स्वरूप बहुत अधिक संक्रामक है, यह ब्रिटेन में 12 से 20 वर्ष के लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है तथा वहां सबसे हावी स्वरूप साबित हो रहा है।

अमेरिका में बीते कुछ महीनों से कोरोना वायरस के मामलों में कमी आ रही है लेकिन टीकाकरण की धीमी गति के मद्देनजर चिंता जताई जा रही है कि डेल्टा स्वरूप यहां फिर से कहर बरपा सकता है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button