भारतीय लैपटॉप बाजार में चिप की कमी ने नए ब्रांडों को किया प्रभावित

उद्योग के विशेषज्ञों के अनुसार, चिप की कमी ने स्मार्टफोन निमार्ताओं के लैपटॉप श्रेणी में प्रवेश करने की समस्या दोगुना बढ़ा दी

नई दिल्ली: पिछले साल शाओमी और रीयलमी जैसे लोकप्रिय स्मार्टफोन ब्रांडों ने भारत में लैपटॉप बाजार में प्रवेश किया, तो उनसे मौजूदा दिग्गजों को प्रभावित करने की उम्मीद थी।

हालांकि, चिप की कमी और आपूर्ति की कमी ने इस लैपटॉप बाजार को प्रभावित किया है। उद्योग के विशेषज्ञों के अनुसार, चिप की कमी ने स्मार्टफोन निमार्ताओं के लैपटॉप श्रेणी में प्रवेश करने की समस्या दोगुना बढ़ा दी।

नवकेंद्र सिंह, अनुसंधान निदेशक, क्लाइंट डिवाइसेस और आईपीडीएस, आईडीसी इंडिया ने कहा, भारत में पारंपरिक पीसी बाजार (डेस्कटॉप, नोटबुक और वर्कस्टेशन सहित) एचपी इंक, लेनोवो और डेल मजबूत बना रहा क्योंकि दूसरी तिमाही में शिपमेंट में साल-दर-साल 50.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

नोटबुक पीसी ने सभी श्रेणी में तीन-चौथाई से अधिक हिस्सेदारी जारी रखी है और 2021 के दूसरी तिमाही में 49.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जो लगातार चौथी तिमाही में 2 मिलियन से अधिक इकाइयों के साथ है। डेस्कटॉप ने भी रिकवरी का संकेत दिया है।

प्रभु राम, हेड, इंडस्ट्री इंटेलिजेंस ग्रुप, सीएमआर के अनुसार, महामारी के कारण घर से काम करना और ऑनलाइन क्लास से संबंधित पीसी की मांग बढ़ रही है।

राम ने आईएएनएस से कहा, मौजूदा आपूर्ति श्रृंखला बाधाओं के बावजूद, त्योहारी सीजन में पीसी बाजार के नेता अपने ब्रांड की प्रमुखता और बाजार हिस्सेदारी हासिल करना जारी रखेंगे।

एचपी ने भारत पीसी बाजार में 33.6 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ अपनी बढ़त बनाए रखी क्योंकि इसके शिपमेंट में सालाना 54.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

डेल टेक्नोलॉजीज ने 22.1 प्रतिशत हिस्सेदारी और इस साल की दूसरी तिमाही में 86.1 प्रतिशत की प्रभावशाली वृद्धि के साथ दूसरा स्थान जारी रखा।

लेनोवो ने इस साल की दूसरी तिमाही में 17.8 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ तीसरा स्थान बनाए रखा था। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के रिसर्च फेलो अरविंद सूरज ने कहा कि नए ब्रांडों के साथ हमेशा विश्वास का मुद्दा अहम होता है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button