मांझी के महागठबंधन में शामिल होने के दरवाजे खुले: तेज प्रताप

पटना: राष्ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का शुक्रवार को 74वां जन्मदिन मनाने के साथ ही उनके बड़े बेटे तेज प्रताप ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख जीतन राम मांझी से मुलाकात की। इस मुलाकात ने राजनीतिक अटकलों को हवा दे दी है।

लगभग 40 मिनट तक चली बैठक के बाद, तेज प्रताप ने मीडियाकर्मियों से कहा कि मांझी के लिए दरवाजे खुले हैं और यह हम नेता पर निर्भर है कि वह बिहार में राजद के नेतृत्व वाले महागठबंधन में शामिल होना चाहते हैं या नहीं।

तेज प्रताप ने कहा, मैं चाचा (मांझी) के घर उनका आशीर्वाद लेने आया था।

वहीं मांझी ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) छोड़ने का सवाल ही नहीं उठता।

मांझी ने कहा, मेरी पार्टी बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले राजग का हिस्सा है। मैंने तेज प्रताप से सामाजिक मुद्दों पर बात की, न कि राजनीतिक। मुझे खुशी है कि वह मेरे घर आए। यह आश्चर्य की बात नहीं है, क्योंकि लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव पहले भी मेरे घर पहले आए थे।

हम बिहार में राजग सरकार की सहयोगी पार्टी है।

तेज प्रताप की टिप्पणी इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि मांझी हाल ही में भाजपा के आलोचक रहे हैं।

शुक्रवार को मांझी ने ट्वीट करते हुए कहा कि भाजपा सबका साथ सबका विकास का वादा कर सत्ता में आई थी, लेकिन अब भगवा पार्टी का एक ही एजेंडा है और वह है तुष्टिकरण।

बांका जिले के एक मदरसे में हुए विस्फोट के दो दिन बाद, गुरुवार को मांझी और उनकी पार्टी ने बिहार में मदरसों को आतंकवादी गतिविधियों का केंद्र करार देने के लिए भाजपा नेताओं की खिंचाई की थी, जिसमें एक इमाम (धार्मिक शिक्षक) की मौत हो गई थी।

सूत्रों ने कहा है कि राजद भविष्य में मांझी और उनकी पार्टी को संभावित गठबंधन सहयोगी के रूप में देख रहा है।

Back to top button