खुशखबरी! अब सिर्फ 634 रुपये में आपके घर पर मिलेगा LPG Cylinder, यहां देखें आपके शहर में LPG सिलिंडरों की नई रेट

अब कई शहरों में हैं LPG सिलेंडर उपलब्ध है, देखें LPG Cylinder's की नई रेट

रांची/नई दिल्ली: चौंक गए न? जी हां! अगर आप भी घरेलू एलपीजी सिलेंडर (LPG Cylinder) की बढ़ती कीमतों से परेशान हैं तो ये खबर आपको खुश कर देगी।

घरेलू गैस सिलेंडर के रेट में अभी कोई बदलाव नहीं हुआ है फिर भी आपको LPG Cylinder 633.50 रुपये का ही मिलेगा। चलिए जानते हैं कैसे…

खुशखबरी! अब सिर्फ 634 रुपये में आपके घर पर मिलेगा LPG Cylinder, यहां देखें आपके शहर में LPG सिलिंडरों की नई रेट

कंपोजिट एलपीजी सिलेंडर

दरअसल, हम आपको बता रहे हैं उस सिलेंडर के बारे में जिसमें गैस दिखती भी है और 14.2 किलो गैस वाले भारी भरकम सिलेंडर से हल्का भी है।

वैसे तो 14.2 किलो गैस वाला सिलेंडर दिल्ली में अभी 899.50 रुपये में मिल रहा है, लेकिन कंपोजिट सिलेंडर (Composite Cylinder) मात्र 633.50 रुपये में भरवा सकते हैं।

खुशखबरी! अब सिर्फ 634 रुपये में आपके घर पर मिलेगा LPG Cylinder, यहां देखें आपके शहर में LPG सिलिंडरों की नई रेट

वहीं 5 किलो गैस वाला एलपीजी कंपोजिट सिलेंडर केवल 502 रुपये में रिफिल होगा। जबकि 10 किलो वाले एलपीजी कंपोजिट सिलेंडर को भरवाने के लिए आपको मात्र 633.50 रुपये देने होंगे।

इन शहरों में हैं LPG सिलेंडर उपलब्ध

ध्यान देने वाली ये है कि कंपोजिट सिलेंडर में वर्तमान सिलेंडर के मुकाबले 4 किलो गैस कम आएगी। पहले चरण में यह कंपोजिट सिलेंडर दिल्ली, बनारस, प्रयागराज, फरीदाबाद, गुरुग्राम, जयपुर, हैदराबाद, जालंधर, जमशेदपुर, पटना, मैसूर, लुधियाना, रायपुर, रांची, अहमदाबाद समेत 28 शहरों में उपलब्ध है।

खुशखबरी! अब सिर्फ 634 रुपये में आपके घर पर मिलेगा LPG Cylinder, यहां देखें आपके शहर में LPG सिलिंडरों की नई रेट

कंपोजिट सिलेंडर की क्या खासियत?

कंपोजिट सिलेंडर लोहे के सिलेंडर के मुकाबले 7 किलो हल्का है। इसमें थ्री-लेयर हैं। अभी इस्तेमाल होने वाला खाली सिलेंडर 17 किलो का होता है और गैस भरने पर यह 31 किलो से थोड़ा अधिक पड़ता है। अब 10 किलो के कंपोजिट सिलेंडर में 10 किलो ही गैस होगी।

यहां देखिए LPG Cylinder’s की नई रेट

खुशखबरी! अब सिर्फ 634 रुपये में आपके घर पर मिलेगा LPG Cylinder, यहां देखें आपके शहर में LPG सिलिंडरों की नई रेट

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button