झारखंड

दशहरे के मेले की भीड़ में कैसे पहुंचा ट्रक, लापरवाह अधिकारियों पर होगी कार्रवाई: DC माधवी मिश्रा

रामगढ़: बरकाकाना ओपी क्षेत्र अंतर्गत दशहरा मेला की (Dussehra Fair) भीड़ में कोयला लदा ट्रक कैसे पहुंचा, इस मामले की जांच शुरू हो गई है।

रामगढ़ DC माधवी मिश्रा के निर्देश पर रामगढ़ SDO जावेद हुसैन ने जांच कमेटी गठित कर दी है। उन्होंने कहा है कि जिस स्तर पर भी लापरवाही (Negligence) बरती गई है उसे बख्शा नहीं जाएगा।

लापरवाही अधिकारियों से हुई है या पुलिस प्रशासन से, सभी बिंदु पर जांच (Inspection) होगी।

मरने वालों की संख्या हुई छह, सभी की हुई शिनाख्त

SDO ने बताया कि इस घटना में मरने वालों की संख्या छह हो गई है। सभी मृतकों की (Dead) शिनाख्त भी कर ली गई है। मरने वालों में रोचप गांव निवासी साजदा खातून, सनाउल अंसारी, हेहल निवासी अलीमुन निशा, तारिक जमील और हेसालोंग निवासी प्रियंका देवी, दुर्गा कुमारी शामिल है।

इस हादसे में (Accidents) हेहल के इसराइल अंसारी, रोजप के साबिर अंसारी और हेसालोंग के आदित्य रवानी और अनुराग कुमार घायल हो गए थे। सभी घायलों की स्थिति खतरे से बाहर है। वे लोग इलाज के (Treatment) बाद अपने घर पहुंच गए हैं।

खलारी से भदानीनगर के लिए चला था कोयला लदा ट्रक

पतरातु रामगढ़ मुख्य मार्ग पर हेहल गांव के पास दानिश पेट्रोल पंप के सामने जब यह हादसा (Accidents) हुआ तो उस वक्त वहां पर दशहरे मेले के लिए लोगों की भीड़ मौजूद थी।

SDO ने बताया कि खलारी से भदानी नगर साइडिंग एक 12 चक्का LP ट्रक NL 02 L 6166 रवाना हुआ था। वह ट्रक बरकाकाना क्षेत्र में कैसे पहुंचा इसकी जांच की जा रही है।

गाड़ी को जप्त कर लिया गया है और उसके मालिक तथा ड्राइवर पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। गाड़ी में मिले कागजात के आधार पर बरकाकाना तक जाने के लिए उस गाड़ी में कोई वैध दस्तावेज (valid document) नहीं थे।

दशहरे की शाम हुआ हादसा

दशहरे की (Dussehra) शाम जब हादसा (Accidents) हुआ, तो उसके बाद वहां गुस्साई भीड़ ने प्रदर्शन शुरू कर दिया। जिला प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सात घंटे तक लोग सड़क जाम कर बैठे रहे।

भीड़ को शांत कराने के लिए घटनास्थल पर (scene) विधायक अंबा प्रसाद, कांग्रेस के वरीय नेता शहजादा अनवर, रामगढ़ SDO जावेद हुसैन, पतरातू SDPO एवीरेंद्र चौधरी पहुंचे और लोगों से वार्ता की।

इस दौरान मृतकों के (Dead) परिजनों को CM राहत कोष योजना से एक लाख रुपए और अंतिम संस्कार के लिए ₹25000 की सहायता देने की बात कही गई।

इसके अलावा जिला प्रशासन राज्य सरकार से अतिरिक्त मुआवजे के लिए अनुशंसा करेगा। इसके बाद भीड़ शांत हुई और शव को उठाकर पोस्टमार्टम के (Post Mortem) लिए भेजा गया।

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker