तानाशाह किम जोंग उन हुए कमजोर, उत्‍तर कोरियाई लोगों का दिल टूटा

प्‍योंगयांग: उत्‍तर कोरिया के सरकारी मीडिया का दावा है कि तानाशाह किम जोंग उन के दुबले होने से सभी देशवासियों का दिल टूट गया है। उत्‍तर कोरिया के सरकारी टीवी चैनल केसीटीवी पर प्रसारित एक इंटरव्‍यू में यह दावा किया गया है।

इस इंटरव्‍यू में उत्‍तर कोरिया और तानाशाह किम की शान में एक और गीत के जारी होने के बाद लोगों से उनकी प्रतिक्रिया मांगी गई थी।

एक अधेड़ उम्र के शख्‍स ने देशवासियों की ओर से कहा कि उत्‍तर कोरिया में हर कोई अपने नेता के वजन कम होने से बहुत दुखी है।

उन्‍होंने कहा ‎कि अपने सम्‍मानित कामरेड महासचिव को इस तरह से दुर्बल होने की तस्‍वीर देखकर सभी लोगों का दिल टूट गया है। हर कोई इस बारे में बात कर रहा है। हमने अभी रोना शुरू कर दिया है।

दरअसल, जून के शुरुआती दिनों में किम जोंग उनके स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर एक बार फिर से अटकलों का बाजार गरम हो गया था।

कई महीने तक गायब रहने के बाद किम जोंग उन पहली बार जनता के सामने आए थे। इस तस्‍वीर में काफी दुबले लग रहे थे।

उन्‍होंने पिछले दिनों अपनी वर्कर्स पार्टी की एक बैठक को संबोधित किया था।‎ ‎पिछले वर्ष भी किम जोंग के लापता होने पर ऐसी अटकलें लगना तेज हो गई थीं कि कहीं तानाशाह की मौत तो नहीं हो गई।

किम जोंग उन के कलाई पर बंधी एक घड़ी की पिछले दिनों खूब चर्चा हुई थी। इस स्विस मेड घड़ी पहने किम जोंग की ताजा तस्वीरों का विश्लेषण कर दावा किया गया था कि वह पहले से काफी ज्यादा दुबले हो गए हैं।

दक्षिण कोरिया की मीडिया एनके न्यूज ने किम जोंग उन की तस्वीर का विश्लेषण कर दावा किया है कि इस तानाशाह का वजन काफी कम हुआ है।

अपनी सनक के लिए कुख्यात इस तानाशाह के स्वास्थ्य पर दुनियाभर की कई खुफिया एजेंसियां भी नजर रखती हैं। उत्तर कोरिया के इस तानाशाह के खानदान में नेताओं के हृदय रोग का इतिहास रहा है।

दक्षिण कोरिया की जासूसी एजेंसी ने नवंबर में सांसदों को बताया कि किम जोंग उन का अनुमानित वजन लगभग 140 किलोग्राम था। 2011 में सत्ता में आने के बाद से उन्होंने लगभग 50 किलोग्राम वजन बढ़ाया था।

विदेशी खुफिया एजेंसियां जानना चाहती हैं कि क्या किम जोंग उन लंबे समय तक नेता बने रहने के लिए स्वस्थ हैं। अगर वह अस्वस्थ हैं तो इसे छिपाया क्यों जा रहा है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button