विदेश

वैक्सीनेशन से ही हासिल हो सकती है हर्ड इम्युनिटी, इसीलिए घटाई गई वैक्सीनेशन की उम्र

विन्निपेग: कोरोना वायरस महामारी का अंत आंशिक रूप से कोविड-19 वैक्सीन के बड़े पैमाने पर उपयोग पर ही निर्भर करता है। बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन के माध्यम से ही सामूहिक प्रतिरक्षा (हर्ड इम्युनिटी) का लक्ष्य हासिल किया जा सकता है।

हाल ही में कनाडा में, नव वयस्कों और किशोरों को वैक्सीनेशन अभियान में शामिल करने के लिए वैक्सीन की पात्रता की आयु कम की जा रही है। हालांकि, इस आयु वर्ग में वैक्सीन लगवाने की इच्छा को समझने के लिए बहुत कम काम किया गया है।

यूनिवर्सिटी ऑफ मैनिटोबा में चाइल्डहुड एडवर्सिटी एंड रेजिलिएशन रिसर्च टीम के हमारे समूह ने हाल ही में बड़े किशोरों और नव वयस्कों के कोविड वैक्सीन लगवाने के इरादों और टीका लगवाने में व्यक्त किसी भी तरह की हिचकिचाहट के कारणों को समझने के उद्देश्य से एक नया अध्ययन प्रकाशित किया है। हमारे प्रतिभागियों में मैनिटोबा के 16 से 21 वर्ष की आयु के 664 युवा शामिल थे।

हमने यह भी जांचा कि कैसे समाजशास्त्रीय कारक, मौजूदा स्वास्थ्य समस्याएं, कोविड-19 के बारे में कम जानकारी और बचपन की किसी प्रतिकूलता का इतिहास कोविड की वैक्सीन लगवाने के इरादे से संबंधित हो सकता है।

इन जोखिम कारकों को समझना महत्वपूर्ण है, क्योंकि हम यह भी जानते हैं कि सामाजिक असमानताएं कोविड के प्रति संवेदनशीलता से जुड़ी हैं।

जिन समुदायों और व्यक्तियों की परिस्थितियां प्रतिकूल हैं और जिन्होंने बाल दुर्व्यवहार या निम्न सामाजिक आर्थिक स्थिति का सामना किया है, उनकी स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच सीमित हो सकती है और वे कोविड-19 से असमान रूप से प्रभावित हो सकते हैं।

इस क्षेत्र में ज्ञान का विस्तार करने से वायरस के संचरण को धीमा करने के सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयासों के महत्वपूर्ण निहितार्थ हो सकते हैं।

ऐतिहासिक रूप से, हमेशा कुछ ऐसे लोग रहे हैं, जो टीका लगवाने के अनिच्छुक हैं। वैक्सीन हिचकिचाहट, जो वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य के सामने मौजूद शीर्ष 10 खतरों में से एक है, एक स्तर पर मौजूद है।

इसमें वे लोग शामिल हैं, जो टीका लगवाने में देरी करते हैं, केवल कुछ वैक्सीन स्वीकार करते हैं या सभी वैक्सीन के लिए मना कर देते हैं।

यह समझना कि कौन टीका लगवाने से हिचकिचा सकता है और उनकी इस अनिच्छा का कारण क्या है, यह जानकारी वैक्सीनेशन के प्रसार को बढ़ाने का प्रयास कर रही सार्वजनिक स्वास्थ्य रणनीतियों के लिए महत्वपूर्ण हो सकती है।

यह इसलिए भी जरूरी है, क्योंकि टीकाकरण के माध्यम से हासिल होने वाली सामूहिक प्रतिरक्षा यकीनन कोविड-19 महामारी को समाप्त करने का एकमात्र तरीका है।

हमारे बड़े किशोर और नव वयस्क अध्ययन के नमूने में, 65.4 प्रतिशत ने एक वैक्सीन लगवाने की इच्छा का संकेत दिया, 8.5 प्रतिशत ने संकेत दिया कि उन्हें टीका नहीं मिलेगा और 26.1 प्रतिशत अनिश्चित थे। कोविड-19 वैक्सीन लगवाने के इरादे को लेकर महिला और पुरूष समान थे।

Back to top button