जनसंख्या वृद्धि को लेकर पाकिस्तान में विशेषज्ञों ने कहा- बढ़ती आबादी देश के लिए एक बड़ा खतरा

इस्मालाबाद: पाकिस्तान में जनसंख्या वृद्धि के बीच विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि बढ़ती आबादी देश के लिए एक बड़ा खतरा है।

अगर इसी गति से पाकिस्तान की जनसंख्या में वृद्धि जारी रहती हैं,तब देश आबादी की जरूरतों को पूरा करने में सक्षम नहीं हो सकता है।

रिपोर्ट के अनुसार विशेषज्ञों का कहना है कि पाकिस्तान का अपने राष्ट्रीय कर्मचारियों की संख्या को स्थायी स्तर पर रखने के लिए संघर्ष जारी है।

उन्होंने कहा कि हालांकि विकास दर सभी समस्याओं का मूल कारण नहीं है, लेकिन यह निश्चित रूप से आजीविका, प्राकृतिक संसाधनों और कुछ सेवाओं, विशेष रूप से स्वास्थ्य और शिक्षा के प्रावधान पर दबाव को बढ़ा देती है।

इस्लामाबाद में जनसंख्या परिषद कार्यालय के प्रमुख डॉ.जेबा सथर ने चेतावनी दी कि हम इस जनसंख्या वृद्धि को विकास योजना में एकीकृत करने में चूक गए जो कि 60 और 90 के दशक में की गई थी।

लगभग साल 2000 के बाद से देश ने आर्थिक नियोजन में जनसंख्या की बड़े पैमाने पर अनदेखी की हैं।

संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या प्रभाग सहित कई प्रतिष्ठित संगठनों द्वारा किए गए शोध के अनुसार पाकिस्तान को अपनी तेजी से बढ़ती नागरिक संख्या की मांगों को पूरा करने के लिए अगले दो दशकों में 117 मिलियन से अधिक नौकरियों, 19 मिलियन घरों और 85,000 प्राथमिक विद्यालयों की आवश्यकता होगी।

बता दें कि दुनिया भर में जनसंख्या के मुद्दों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए हर साल 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस के रूप में मनाया जाता है।

वैश्विक जनसंख्या जागरूकता दिवस के लगभग तीन दशक बाद पाकिस्तान की जनसंख्या वृद्धि चिंताजनक है।

रिपोर्ट के मुताबिक जनसंख्या वृद्धि पर विश्व स्तर पर स्वीकृत सिद्धांत काफी सरल है।

यह देखकर भूमि की एक निश्चित मात्रा है, जनसंख्या में वृद्धि अंततः उन संसाधनों की संख्या को कम कर देगी जिनका प्रत्येक व्यक्ति उपभोग और उपयोग कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप अंततः बीमारी, भुखमरी और यहां तक ​​कि कुछ मामलों में संघर्ष भी हो सकता है।

विशेषज्ञों का कहना है कि हालांकि पाकिस्तान उस स्तर पर नहीं है लेकिन इसकी प्रबल संभावना है, कि उच्च जन्म दर और तेजी से जनसंख्या वृद्धि अंततः आर्थिक विकास पर दबाव डालेगी।

विशेषज्ञों के अनुसार यदि जनसंख्या इस दर से बढ़ती रही,तब पंजाब की जनसंख्या, जो पहले से ही सबसे अधिक आबादी वाले प्रांत का खिताब रखती है, पाकिस्तान के शताब्दी वर्ष तक वर्तमान राष्ट्रीय संख्या के बराबर होगी।

पंजाब के जनसंख्या संकट का एक अन्य कारण कम उम्र में विवाह की संख्या में वृद्धि है। एक स्थानीय अधिकारी के अनुसार 30 प्रतिशत लड़कियों की शादी 16 से 22 वर्ष की आयु के बीच होती है।

‘इसके अलावा ज्यादा बच्चे पैदा करने का एक बड़ा कारण बेटे की चाहत भी है जिस वजह से आबादी बढ़ रही है। पंजाब अपनी ग्रामीण आबादी में तेजी से वृद्धि के साथ संघर्ष कर रहा है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button