झारखंड : AXIS Bank का कर्मचारी पहले भी हड़प चुका है कई ग्राहकों का पैसा, की है आत्महत्या करने की भी कोशिश

रामगढ़: एक्सिस बैंक AXIS Bank का कर्मचारी हिमांशु मिश्रा पहले भी ग्राहकों का पैसा हड़प चुका है। उसके द्वारा ग्राहकों को अपने झांसे में लिया जाता है और फिर उनकी मोटी रकम को हड़पने का प्लान बनाया जाता है।

बरकाकाना निवासी सीसीएल कर्मी उमेश प्रसाद सिंह के खाते से 814023 रुपए आइएमपीएस यानी मोबाइल के जरिए ही ट्रांसफर किया गया। उमेश प्रसाद सिंह की शिकायत पर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

उमेश प्रसाद सिंह के बैंक खाते में जो नंबर बदला गया है वह 8986786529 बीएसएनल कंपनी का है। यह नंबर बैंक खाते में हिमांशु मिश्रा के द्वारा ही अपडेट किया गया है।

उमेश प्रसाद सिंह अपने परिजनों के साथ बुधवार को बैंक पहुंचे तो कई खुलासे हुए।

10 दिनों से बिना छुट्टी के फरार है हिमांशु

ब्रांच मैनेजर की गैरमौजूदगी में प्रभारी मैनेजर संजिदा चौहान ने बताया कि हिमांशु मिश्रा पिछले 10 दिनों से गायब है। उन्होंने बैंक से कोई छुट्टी नहीं ली है।

हिमांशु को कई बार फोन कर ब्रांच में बुलाया जा रहा है ताकि मामले की सही जांच हो सके। लेकिन बुधवार तक वे बैंक में नहीं पहुंचे हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि शाखा प्रबंधक भी 8 मार्च तक छुट्टी में ही हैं।

शेयर की खरीद बिक्री के नाम पर भी लाखों रुपए का किया था गबन

रामगढ़ थाना पुलिस को यह पता चलि है कि हिमांशु मिश्रा के द्वारा पैसों का गबन पहले भी किया जा चुका है। वह व्यक्ति मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बनारस का निवासी है।

एक्सिस बैंक में काम करने से पहले हिमांशु शेयर बाजार स्थापित रेलीकेयर कंपनी में काम करता था। वहां उसने शेयर की खरीद बिक्री के नाम पर 50 लाख से ज्यादा रकम का गबन किया था।

उस मामले में बनारस में उसके खिलाफ कुछ ग्राहकों ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी। उस गबन में रामगढ़ के भी कुछ व्यापारी फंसे थे। बनारस से इतनी मोटी रकम उठाने के बाद हिमांशु फरार हो गया था।

सितंबर 2020 में रामगढ़ थाने में हाजिर हुआ था हिमांशु

बनारस से फरार होने के बाद रामगढ़ के व्यापारियों को पता चला कि हिमांशु मिश्रा यहीं के एक्सिस बैंक में रिकवरी डिपार्टमेंट में काम कर रहा है। जब उन्हें इसकी भनक लगी तो तत्काल रामगढ़ थाना पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने जब हिमांशु को थाने बुलाया तो पूरा मामला खुलकर सामने आया। हिमांशु ने यह कबूल किया कि लगभग 35 लाख रुपए उसके ऊपर बकाया है। 15 लाख रुपए आरटीजीएस के माध्यम से उसने दिया। साथ ही 10 लाख रुपए का एक चेक भी हिमांशु के द्वारा जारी किया गया।

आत्महत्या की भी कहानी बना चुका है हिमांशु

हिमांशु मिश्रा गबन और लेन-देन के मामले के अलावा आत्महत्या की कोशिश की भी कहानी बना चुका है। दिसंबर 2020 में उसने रामगढ़ थाने में लिखित शिकायत की थी की कुछ लोगों के द्वारा उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है। जिसकी वजह से परेशान होकर उसने अपने हाथ की कलाई काट ली और आत्महत्या करने की कोशिश की। इस मामले में भी रामगढ़ पुलिस ने जांच की। लेकिन मामला आपसी विवाद का ही सामने आया। इसके बाद रामगढ़ पुलिस ने तत्काल विवाद शांत करने के लिए धारा 107 के तहत मामला दर्ज कर एसडीओ कोर्ट भेज दिया। यह मामला अभी भी चल रहा है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button