झारखंड

झारखंड में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, मारा गया 15 लाख का इनामी हार्डकोर नक्सली बुद्धेश्वर उरांव!

मुठभेड़ के बाद सर्च अभियान जारी

रांची: झारखंड के गुमला जिले में गुरुवार की सुबह नक्सल प्रभावित कुरुमगढ़ थाना मरवा-केरागानी जंगल में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई।

सुरक्षाबल और माओवादी के बीच मुठभेड़ में एक नक्सली मारा गया। मारे गए नक्सली की पहचान अबतक नहीं हो सकी है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार पुलिस और सुरक्षाबल सर्च अभियान पर निकली थी।

इसी दौरान सुरक्षाबलों और माओवादी के बीच मुठभेड़ हो गई। दोनों ओर से हुई गोलीबारी में एक माओवादी मारा गया। दोनों ओर से हुई गोलीबारी में सुरक्षा बल को भारी पड़ता देख माओवादी घने जंगल का फायदा उठाकर भागने में सफल रहे।

जंगल में सुरक्षा बलों के द्वारा सर्च अभियान चलाया जा रहा है। इस संबंध में आईजी अभियान एवी होमकर से संपर्क करने पर उन्होंने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि मुठभेड़ में एक नक्सली मारा गया है। मुठभेड़ के बाद सर्च अभियान जारी है।

सूत्रों के अनुसार मरवा-केरागानी जंगल में 15 लाख रूपया इनामी हार्डकोर नक्सली बुद्धेश्वर उरांव के दस्ते के साथ मुठभेड़ हुई है।

पुलिस के वरीय अधिकारी को गुप्त सूचना मिली थी कि बुद्धेश्वर उरांव किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए मड़वा-केरागानी जंगल में अपने दस्ते के साथ मौजूद है।

सूचना के बाद पुलिस और सुरक्षाबलों के द्वारा सर्च अभियान चलाया गया। सर्च अभियान के दौरान ही माओवादियों ने सुरक्षाबलों को देखते ही फायरिंग शुरू कर दी।

उल्लेखनीय है कि गुमला जिले के नक्सल प्रभावित मड़वा-केरागानी जंगल में बुधवार को लगातार दूसरे दिन लैंडमाइंस विस्फोट में एक ग्रामीण की मौत हो गई थी। उसकी पहचान बारडीह गांव निवासी रामदेव मुंडा (40) के रूप में हुई थी।

घटनास्थल कुरुमगढ़ में मंगलवार को इसी जंगल में लैंडमाइंस विस्फोट में सीआरपीएफ जवान विश्वजीत कुंभकार घायल हो गया था, जबकि तेजतर्रार डॉग मारा गया था।

कुरुमगढ़ थाना क्षेत्र में माओवादियों के जमा होने और हिंसक कार्रवाई की योजना की सूचना है। इस कारण विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

Back to top button