लोहरदगा में धड़-पकड़ अभियान करें तेज, हर हाल में होनी चाहिए क्राइम कंट्रोल

लोहरदगा: एसपी कार्यालय में आज पुलिस अधीक्षक लोहरदगा प्रियंका मीना ने सभी थानेदारों के साथ क्राइम मीटिंग की।

क्राइम मीटिग में जिले में अपराध की घटनाओं में कमी लाने और अपराध नियंत्रण के लिए एसपी ने सभी थानाध्यक्षों और वरीय पुलिस पदाधिकारियों को अपराध में कमी लाने का कड़ा निर्देश दिया।

एसपी ने रात्रि गश्ती तेज करने और कांडों का त्वरित गति से निष्पादन करने का भी निर्देश दिया।

लगभग चार घंटे तक आपराधिक घटनाओं और उससे संबंधित कार्रवाई पर चर्चा हुई।

क्राइम मीटिग में पुलिस अधीक्षक ने सर्वप्रथम जिले के सभी थानाध्यक्षों से अपराध नियंत्रण पर विशेष ध्यान देने का निर्देश देने के बाद प्रत्येक थाने में घटित आपराधिक घटनाओं, लूट-पाट, हत्या सहित अन्य घटनाओं में अब तक प्रशासनिक कार्रवाई और उपलब्धि के बारे में जाना।

इसके बाद अपराध के पूर्व के रिकार्ड और वर्तमान के बारे में पूछताछ की। सभी थानों के थानेदार से बारी-बारी से पूछताछ हुई।

साथ ही लूट-पाट और आपराधिक घटनाओं के लिए पूर्व से चिन्हित स्थलों पर पुलिस बल की तैनाती रखने का निर्देश दिया।

साथ ही शराब धंधेबाजों के खिलाफ धड़ -पकड़ अभियान तेज करने का भी निर्देश दिया गया है।

पुलिस अधीक्षक ने सभी थानाध्यक्षों और वरीय पुलिस पदाधिकारियों को लंबित आपराधिक मामलों का शीघ्र निष्पादन करने का निर्देश दिया।

पुलिस अधीक्षक ने थानेदारों को स्पष्ट तौर पर कहा कि हर हाल में क्राइम कंट्रोल होनी चाहिए। लोहरदगा एसपी प्रियंका मीना ने शराब की मामले पर कहा कि हर हाल में शराब धंधेबाजों की गिरफ्तारी सुनिश्चित करें।

क्राइम मीटिंग के दौरान जिले के कई पदाधिकारियों को उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए प्रशस्ति पत्र लोहरदगा एसपी के द्वारा प्रदान किया गया। जिनमें लोहरदगा थाना प्रभारी मंटू कुमार एवं कुडू़ थाना प्रभारी अनिल उरांव एवं कई पुलिस अवर निरीक्षक एवं सहायक अवर निरीक्षक शामिल थे।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button