रांची पुलिस के लिए सिर दर्द बना बाल सुधार गृह, अब दो बंदी हुआ फरार, जांच में जुटी पुलिस

रांची: रांची का बाल सुधार गृह लगातार चर्चे में है। इसी महीने पुलिस की टीम ने दो बार छापेमारी की।

जिसमें चाकू से लेकर नशे के समान बरामद किए गए थे। रांची के बाल सुधार गृह के शराब पार्टी की वीडिया भी वायरल हुई थी।

मामले में रांची के एसएसपी ने कार्रवाई करते हुए वहां मौजूद 15 सुरक्षाकर्मियों को तत्काल प्रभाव से हटा दिया था। लेकिन इसके बावजूद मात्र 6 दिन बाद ही जब पुलिस की टीम ने बाल सुधार गृह में छापेमारी की तो वहां से भारी मात्रा में नशे के समान मिले थे। अब बाल कैदी फरार हो गए।

जी हां सदर थाना क्षेत्र के डुमरदगा स्थित बाल सुधार गृह से सोमवार को दो बाल बंदी सुरक्षाकर्मियों को चकमा देकर फरार हो गए हैं।

आनन-फानन में सदर थाना पुलिस को पूरे मामले की जानकारी दी गई।

घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर सदर डीएसपी और सदर थाना प्रभारी पहुंचे और मामले की जांच पड़ताल की।

दोनों फरार बाल बंदियों की तलाश की जा रही है. हालांकि, अभी तक दोनों पकड़ में नहीं आ पाए हैं। रांची के सदर डीएसपी प्रभात बरवार ने बताया कि वे मामले की जांच में लगे हैं

। फरार हुए दोनों बाल बंदियो की तलाश की जारी है। सदर डीएसपी यह नहीं बता पाए कि जो बाल बंदी फरार हुए हैं वह किस जुर्म में बाल सुधार गृह में बंद थे।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले भी डुमरदगा स्थित बाल सुधार गृह से बाल बंदी के भागने की घटना हो चुकी है।

गौरतलब है कि 13 जनवरी 2020 को एक नाबालिग आरोपी बाल सुधार गृह से फरार हो गया था। फरार नाबालिग कई मामलों में आरोपी था।

बाल बंदी 15 फीट ऊंची दीवार को बॉलीबॉल नेट के सहारे बाल बंदी फांद कर फरार हो गये थे।

सदर थाना क्षेत्र के बूटी मोड़ डूमरदगा स्थित बाल सुधार गृह में रांची पुलिस की टीम ने सिटी एसपी के नेतृत्व में बीते आठ जून को छापेमारी की थी।

इस छापेमारी के दौरान पुलिस ने बाल सुधार गृह से सिगरेट और गांजा समेत कई अन्य सामान बरामद किये थे।

मालूम हो कि बाल सुधार गृह में रह रहे नाबालिग बंदियों का नशे का सेवन करने का एक वीडियो भी वायरल हुआ था।

इसके बाद पुलिस की विशेष टीम की तरफ से छापेमारी की गई थी।

इसके बाद दुबारा बीते 19 जून को डुमरदगा स्थित बाल सुधार गृह में रांची पुलिस की टीम ने सिटी एसपी के नेतृत्व में छापेमारी की थी।

छापेमारी के दौरान पुलिस की टीम ने मोबाइल, चार्जर, हेडफोन, सिगरेट और खैनी समेत कई आपत्तिजनक चीज बरामद किया गया था।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button