झारखंड

विश्वविद्यालय की नौ जनजातीय भाषाओं के लिए बनेंगे अलग विभाग

रांची: रांची विश्वविद्यालय सभागार में कुलपति प्रो कामिनी कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को एकेडमिक काउंसिल की बैठक हुई।

बैठक में विश्वविद्यालय पीजी टीआरएल की सभी नौ जनजातीय भाषाओं के लिए अलग-अलग विभाग बनाए जाने का निर्णय हुआ है।

विभागों में डीन भी अलग होंगे, जबकि अभी सभी भाषाओं के लिए एक ही एचओडी होंगे। इसी वर्ष से नामांकन शुरू होगा। इसके अलावा बैठक में कई और निर्णय हुए हैं।

कुलपति प्रो कामिनी कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय डिजिटलाइजेशन और पेपर ऑफिस की अवधारणा के उद्देश्य कार्रवाई करेगा।

आगे से प्रयास होगा कि बैठक के एजेंडा सदस्यों को ईमेल के माध्यम से उपलब्ध कराया जाए।

इससे न सिर्फ पेपर और मैन पावर की बचत होगी बल्कि सभी सदस्य इस कारण इलेक्ट्रॉनिक संस्थानों का उपयोग कार्यालय कार्यों के लिए करने को धीरे धीरे आधी हो जाएंगे।

बैठक में आरके शर्मा, ज्योति कुमार, प्रीतम कुमार, आशीष कुमार झा, राजीव कुमार सिंह आदि उपस्थित थे।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button