पेपर लीक मामले में 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में विस के अवर सचिव व दो बेटे…

News Aroma Desk

JSSC Paper Leak Criminals: JSSC पेपर लीक मामले में मंगलवार को गिरफ्तार (Arrest) झारखंड विधानसभा (Assembly) के अवर सचिव मोहम्मद शमीम और उसके दोनों बेटों शहजादा और शाहनवाज को रांची सिविल कोर्ट (Civil Court) में पेश किया गया।

कोर्ट ने तीनों को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। तीनों को नगड़ी थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया था।

JSSC-CGL परीक्षा पेपर लीक मामले में बड़ा खुलासा

JSSC-CGL परीक्षा पेपर लीक मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। पुलिस की जांच में पता चला है कि इस पेपर लीक कांड में रांची से लेकर पटना तक के सरकारी अफसरों, कोचिंग संचालकों और धंधेबाजों का बड़ा नेटवर्क सक्रिय था।

पुलिस जांच में यह बात सामने आई है कि गिरफ्तार किए गये झारखंड विधानसभा (Jharkhand Assembly) के अवर सचिव मो. शमीम और उनके दो बेटों ने छह अभ्यर्थियों को परीक्षा के पहले 27-30 लाख रुपये में पर्चे उपलब्ध कराए थे।

रिजवान गिरफ्तार अवर सचिव का दामाद है

JSSC -CGL परीक्षा पेपर लीक मामले में बिहार विधानसभा के कर्मी मोहम्मद रिजवान की भी संलिप्तता सामने आयी है। रिजवान गिरफ्तार अवर सचिव का दामाद है। उसकी गिरफ्तारी के लिए SIT की टीम ने पटना के अनीसाबाद स्थित उसके घर में छापेमारी (Raid) की लेकिन वह फरार मिला।

पुलिस ने बताया कि पहले तो मो. शमीम ने पेपर लीक कांड में अपनी संलिप्तता से इंकार किया लेकिन जैसे-जैसे सबूत पेश किये गये, वह राज उगलता चला गया। मो. शमीम ने बताया कि JSSC पेपर लीक मामले में छह अभ्यर्थियों से डीलिंग हुई थी।

सौदा 27 से 30 लाख में तय हुआ था। दो अभ्यर्थियों की परीक्षा 28 को हुई थी। परीक्षा से दो दिन पहले ही दोनों को पटना भेज दिया गया था।

पटना में मो. शमीम के दामाद रिजवान ने उनके रहने की व्यवस्था की थी। दोनों को परीक्षा के पहले ही उत्तर याद करा दिया गया था। इसके बाद उन्हें सेंटर तक छोड़ा गया। एक अभ्यर्थी का सेंटर धनबाद और दूसरे का रांची में था।

मामले की जांच में जुटी पुलिस

पेपर लीक कांड में गिरफ्तार आरोपितों ने 28 की परीक्षा में शामिल दोनों अभ्यर्थियों का नाम और पता भी पुलिस को बता दिया है। पुलिस दोनों की तलाश में जुटी है।

SIT की टीम JSSC पेपर लीक कांड में परीक्षा लेने वाली एजेंसी सतवंत Info Private Limited के कर्मियों से पूछताछ करेगी। पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि कहीं इस कांड में परीक्षा लेनी वाली एजेंसी के कर्मी और अधिकारी भी तो शामिल नहीं हैं।

हमें Follow करें!