हर्षवर्धन, फारूक अब्दुल्ला व कमल हासन समेत कई नेताओं ने लगावाया टीका

नई दिल्ली : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और उनकी पत्नी को मंगलवार को कोरोना टीका लगा। उन्होंने दिल्ली हार्ट एंड लंग इंस्टीटूट अस्पताल में कोरोना वैक्सीन की पहली डोज ली।

वैक्सीन लगने के बाद स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि उन्होंने और उनकी पत्नी ने 250 रुपये देकर कोवैक्सीन का टीका लगवाया है। वैक्सीन संजीवनी की तरह काम करती है।

हनुमान जी ने इसे लाने के लिए भारत को पार किया था, लेकिन यह संजीवनी यह ‘संजीवनी’ आपके नजदीकी सरकारी और निजी अस्पताल में उपलब्ध है।

देशवासियों से अपील है कि वैक्सीन लगवाएं। वहीं, जम्मू-कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस के सांसद फारूक अब्दुल्ला और केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने उत्तर प्रदेश के रामपुर में कोरोना वैक्सीन की पहली डोज ली।

इससे पहले हैदराबाद के गांधी अस्पाताल में गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी को टीका लगा।

अभिनेता और मक्कल निधि मय्यम के अध्यक्ष कमल हासन ने चेन्नई में वैक्सीन की पहली खुराक ली।

भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री को भी टीका लगा। उन्हें अहमदाबाद में टीका लगा।

ट्वीट करके उन्होंने खुद इसकी जानकारी दी। बता दें कि देश में कोरोना टीकाकरण के दूसरे चरण की शुरुआत सोमवार को हुई।

इस चरण में 60 साल से ज्यादा उम्र और गंभीर बीमारियों से ग्रसित 45 साल से ज्यादा लोगों को टीका लगाया जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को एम्स में टीका लगवाया। इसके बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के अलावा उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, विदेश मंत्री एस जयशंकर, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार सहित कई प्रमुख नेताओं को सोमवार को कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक दी गई।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार अब तक 1.48 करोड़ लोगों का टीकाकरण हो चुका है। आम लोगों के लिए टीकाकरण की शुरुआत के पहले दिन सवा लाख से ज्यादा लोगों को टीका लगा।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार सोमवार को 60 साल के अधिक के 1,28,630 और 45 से अधिक उम्र के गंभीर बीमारी से ग्रस्त 18,850 लोगों को टीका लगाया गया।

सोमवार सुबह नौ बजे रजिस्ट्रेशन शुरू होने के बाद से कोविन पोर्टल पर पहले दिन 25 लाख लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया। बता दें कि गत तीन जनवरी को दो वैक्सीन सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशिल्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी गई।

इसके बाद 16 जनवरी से टीककरण की शुरुआत हुई । स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार अब तक 1. 48 करोड़ से ज्यादा लोगों का टीकाकरण हो चुका है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button