कोरोना की दूसरी लहर के दौरान 269 डॉक्टरों की हुई मोत, सबसे ज्यादा बिहार में मौत

नई दिल्ली: भारतीय मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने एक चौंकाने वाला आंकड़ा जारी किया है।

आईएमए के अनुसार, कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अबतक 269 डॉकटरों की जान जा चुकी है। आईएमए ने सभी राज्यों का आंकड़ा जारी किया है।

हालांकि, पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर में डॉक्टरों की हुई मौत का आंकड़ा कम है।

बता दें कि कोरोना की पहली लहर के दौरान 748 डॉक्टरों की जान गई थी।

देश में सबसे ज्यादा डॉक्टरों की जान बिहार राज्य में गई है। बिहार में कुल 78 डॉक्टरों ने दूसरी लहर के दौरान दम तोड़ा है।

इसके बाद उत्तर प्रदेश का नंबर आता है, जहां 37 डॉक्टरों ने कोरोना की दूसरी लहर के दौरान हार मानी है।

 दिल्ली में 28 डॉक्टरों की दूसरी लहर के दौरान मौत हुई। वहीं आंध्र प्रदेश में 22 डॉक्टरों ने जान गंवाई।

इसके अलावा महाराष्ट्र, जहां सबसे ज्यादा कोरोना के मामले हैं, वहां 14 डॉक्टरों ने दूसरी लहर के दौरान दम तोड़ा है।

आईएमए के पूर्व अध्यक्ष का निधन

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और हार्ट केयर फाउंडेशन के प्रमुख एवं पद्मश्री डॉ. केके अग्रवाल(62) का सोमवार रात करीब 11.30 बजे कोरोना संक्रमण के कारण निधन हो गया।

वे पिछले कई दिन से एम्स के ट्रामा सेंटर में भर्ती थे।

तीन दिन पहले ही तबीयत बिगड़ने के चलते उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था।

कोरोना से होने वाली दैनिक मौतों ने अब तक का सारा रिकॉर्ड तोड़ दिया है।

पिछले 24 घंटे में देश में 4329 लोगों ने इस खतरनाक वायरस के आगे दम तोड़ दिया। जबकि संक्रमित मामलों में लगातार कमी देखी गई।

वहीं दैनिक बढ़ रहे मौत के आंकड़ों ने स्वास्थ्य महकमे के बीच दहशत का माहौल पैदा कर दिया है।

यही नहीं पिछले 24 घंटे में 4.22 लाख से ज्यादा लोग कोरोना से ठीक हुए।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button