सीएम शिवराज ने सोनिया गांधी से मांगा जवाब, कहा- क्या आप कमलनाथ के आग लगाने वाले बयान से सहमत हैं?

भोपाल: मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ के आग लगाने वाले बयान पर प्रदेश की सियासत गर्म हो गई है।

भाजपा नेता लगातार कमलनाथ पर उनके बयान के लिए निशाना साध रहे हैं।

अब प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान ने भी कमलनाथ से जवाब मांगते हुए सोनिया गांधी से सवाल पूछा है।

उन्होंने कहा है कि कांग्रेस आग लगाने की तैयारी में लगी है। कमलनाथ जी, जवाब देना पड़ेगा।

आप मौत का उत्सव मना रहे हो? कैसे भी अराजकता का तांडव हो जाए, इस प्रयास में आप और आपकी पार्टी लगी है।

मैं सोनिया गांधी से पूछना चाहता हूं कि क्या वे कमलनाथ के आग लगाने वाले बयान से सहमत हैं?

सीएम शिवराज ने सोमवार को अपने बयान में कहा कि एक तरफ सरकार जनता के सहयोग से कोविड19 संक्रमण को नियंत्रित करने की कोशिश में लगी है,पीड़ित परिवारों की सेवा में लगी है,वहीं कांग्रेस आग लगाने की तैयारी में लगी है।

कमलनाथ जी जवाब दें, इस समय जब साथ मिलकर लड़ने का है,आप मौत का उत्सव मना रहे हैं। आप प्रदेश में अराजकता फैला रहे हैं।

सीएम शिवराज ने सोनिया गांधी से सवाल पूछते हुए कहा कि यह युद्ध का समय है और युद्ध के समय जनता का साथ देने की जगह, सरकार के साथ खड़े होने की जगह, आप कैसे भी अराजकता का तांडव हो, इस प्रयास में लगे हुए हैंं।

मैं मैडम सोनिया गांधी से पूछता हूँ, क्या आप कमलनाथ जी के आग लगाने वाले बयान से सहमत हैं? क्या आपकी सहमति से उन्होंने यह बयान दिया?

उन्होंने कहा कि क्या मैडम सोनिया गांधी कमलनाथ जी के ‘इंडियन कोरोना’ वाले बयान से सहमत हैं? आग लगाने का विचार कमलनाथ जी का विचार है या आपकी तरफ से निर्देश दिए गए हैं? अगर कमलनाथ जी अपने मन से यह कह रहे हैं तो आप धृतराष्ट्र बन कर तमाशा क्यों देख रही हैं? सीएम शिवराज ने कहा कि कमलनाथ जी पर मैडम सोनिया गांधी कार्रवाई करें और यदि आप उनके विचारों से सहमत हैं तो देश को अवगत कराएँ ताकि जनता को पता चल सके कि कांग्रेस पार्टी की सोच क्या है? हमारी सरकार मध्यप्रदेश में जनता की सेवा में लगी रहेगी और हम किसी भी कीमत पर आग नहीं लगने देंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में हमने जनता के सहयोग से कोविड19 संक्रमण की दर को लगभग नियंत्रित कर लिया है।

स्वस्थ होने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। आज 7,000 से अधिक लोग स्वस्थ हुए हैं, जबकि नए पॉज़िटिव केस 2,936 आये।

पॉजिटिविटी रेट घटकर 4.2 प्रतिशत हो गया है, लेकिन हमें सतर्क रहने की ज़रूरत है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button