भारत को पसंद हैं युवा और गतिशील नेता: सर्वे

नई दिल्ली: आईएएनएस सीवोटर लाइव ट्रैकर के नवीनतम दौर में कुछ दिलचस्प बातें सामने आई हैं। शीर्ष पंक्ति के निष्कर्ष बताते हैं कि भारत युवा और गतिशील मंत्री तथा राज्यपाल चाहता है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल में बड़े फेरबदल के दो दिन बाद, जिसमें मोदी सरकार में महत्वपूर्ण विभागों के साथ कई युवा नेताओं को कैबिनेट में शामिल किया गया और पदोन्नत किया गया, आईएएनएस सी वोटर लाइव ट्रैकर ने खुलासा किया कि बड़ी संख्या में भारतीयों का मानना है कि एक युवा भारत को युवा राजनेता और एक युवा मंत्रिमंडल की जरूरत है।

सर्वेक्षण में भाग लेने वाले 45.5 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने युवा और गतिशील राजनेताओं पर भरोसा किया, जबकि 41.5 प्रतिशत ने कहा कि भारत को बेहतर शासन के लिए युवा और अनुभवी नेताओं के संयोजन की आवश्यकता है।

शेष उत्तरदाताओं को यकीन नहीं था कि क्या युवा राजनेता या सरकार में युवा और अनुभवी नेताओं का संयोजन देश को बेहतर भविष्य की ओर ले जा सकता है।

इसी सर्वेक्षण में, अधिकांश उत्तरदाताओं ने कहा कि युवा नेताओं की वर्तमान पीढ़ी में देश के राजनीतिक परि²श्य पर राष्ट्रीय नेताओं के रूप में उभरने की क्षमता है।

इसी तरह, आईएएनएस सीवोटर लाइव ट्रैकर ने आगे खुलासा किया कि अधिकांश भारतीयों का मानना है कि सेवानिवृत्त राजनेता अच्छे राज्यपाल नहीं बनते हैं और सरकार को इन संवेधानिक पदों पर विभिन्न राज्यों में युवा और गतिशील नेताओं की नियुक्ति करनी चाहिए।

सर्वेक्षण के आंकड़ों के अनुसार, जबकि 51 प्रतिशत ने महसूस किया कि राजभवन के सेवानिवृत्त राजनेताओं की तुलना में युवा नेता राज्यपाल के पद के साथ न्याय कर पाएंगे, जबकि 37.6 प्रतिशत ने कहा कि युवा और अनुभवी राजनेताओं का एक संयोजन बेहतर विकल्प बन सकता है। शेष उत्तरदाताओं की इस मुद्दे पर कोई राय नहीं थी।

भारत को ट्विटर पर कार्रवाई करनी चाहिए

आईटी नियमों को लेकर केंद्र सरकार और ट्विटर के बीच चल रहे आमना-सामना के बीच आयोजित आईएएनएस सीवोटर लाइव ट्रैकर से पता चला कि अधिकांश भारतीयों का मानना है कि भारत को देश के कानूनों का पालन नहीं करने के लिए ट्विटर पर कार्रवाई करनी चाहिए।

सर्वेक्षण के आंकड़ों के अनुसार, जहां 70.8 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि भारत को भारतीय कानूनों का उल्लंघन करने के लिए सोशल मीडिया दिग्गज के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए, वहीं साक्षात्कार में शामिल लोगों में से केवल 18 प्रतिशत ने कहा कि भारत को भारत के कानूनों का पालन नहीं करने के लिए ट्विटर के खिलाफ कार्रवाई शुरू नहीं करनी चाहिए। शेष उत्तरदाताओं को यकीन नहीं था कि भारत को ट्विटर के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।

भारत बहुत जल्द और तेजी से खुल रहा है

जैसा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विभिन्न शहरों में बाजारों और सार्वजनिक स्थानों पर, विशेष रूप से हिल स्टेशनों में, कोविड प्रोटोका1ल्स का उल्लंघन करते हुए भारी भीड़ पर चिंता व्यक्त की, अधिकांश भारतीयों का मानना है कि देश में अनलॉक प्रक्रिया बहुत जल्द औ बहुत तेज गति से हो रही है।

आईएएनएस सीवोटर लाइव ट्रैकर में 53.3 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि भारत बहुत तेजी से और बहुत जल्द खुल रहोहै और सरकार को बड़ी सभाओं से बचने के लिए आवश्यक प्रतिबंध लाने चाहिए? जबकि 34.3 प्रतिशत ने महसूस किया कि यह बाजार और जनता को खोलने का सही समय है। शेष उत्तरदाताओं ने इस सम्बंध में कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया।

केरल तीसरी लहर के केंद्र के रूप में उभर सकता है

जैसा कि केरल में कोविड के मामलों को कम करने के लिए संघर्ष जारी है, बड़ी संख्या में भारतीयों का मानना है कि दक्षिणी राज्य देश में संभावित तीसरी कोविड लहर का केंद्र हो सकता है।

सर्वेक्षण के आंकड़ों के अनुसार, 45.9 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि केरल को कोविड के मामलों को कम करना मुश्किल हो रहा है और राज्य घातक बीमारी के उपरिकेंद्र के रूप में उभर सकता है

साक्षात्कार में शामिल 35.9 फीसदी लोगों ने महसूस किया कि राज्य में चीजें नियंत्रण में आ जाएंगी। और इसकी बहुत कम संभावना है कि केरल से तीसरी कोरोना लहर शुरू होगी। शेष उत्तरदाताओं को यकीन नहीं था कि केरल में चीजें नियंत्रण में होंगी या नहीं।

अधिकांश जनसंख्या सावधानियां बरत रही है, मास्क पहन रही है

अप्रैल-मई में घातक दूसरी कोविड लहर के बाद जब भी वे बाहर निकलते हैं, तब अधिकांश भारतीय मास्क पहनकर उचित सावधानी बरतते हैं। भले ही देश में कोविड के मामलों की संख्या में काफी कमी आई है लेकिन अधिकांश लोगों की सावधानियों के दौर में लचीलापन नहीं आया है।

आईएएनएस सीवोटर लाइव ट्रैकर के अनुसार, 70 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि जब भी वे बाहर निकलते हैं तोमास्क पहनते हैं।

साक्षात्कार में शामिल लोगों में से केवल 18.3 प्रतिशत ही घातक वायरस के प्रति सावधानी बरतने में लापरवाह दिखाई देते हैं क्योंकि उन्होंने कहा कि मास्क पहनना बंद कर दिया है। बाकी उत्तरदाताओं ने इस मुद्दे पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button