Covishield लेने वाले भारतीय यात्री कर सकते इन यूरोपियन देशों की यात्रा

नई दिल्ली: सीरम इंस्टीट्यूट (एसआईआई) और ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड’ Covishield को ऑस्ट्रिया, जर्मनी, स्लोवेनिया, ग्रीस, आइसलैंड, आयरलैंड और स्पेन ने मंजूरी दे दी है,इसके बाद वहां कोविशील्ड की खुराक लेने वालों पर से यात्रा प्रतिबंध हटा दिया गया है।

साथ ही स्विट्जरलैंड और एस्टोनिया ने भी इसके लिए हरी झंडी दिखाई है। एस्टोनिया ने कहा है कि भारत सरकार द्वारा अधिकृत सभी कोरोना वैक्सीन को वहां मंजूरी देगा।

27 सदस्यीय यूरोपीय ब्लॉक की ओर से ईयू डिजिटल कोविड सर्टिफिकेट फ्रेमवर्क 1 जुलाई से लागू होगा। इसके तहत यूरोपीयन मेडिसिन्स एजेंसी द्वारा मंजूरी प्राप्त वैक्सीन की खुराक लेने वाले लोगों को यात्रा प्रतिबंध से छूट होगी।

कोरोना से बचाव के क्रम में वैक्सीन कोविशील्ड को स्वीट्जरलैंड ने मंजूरी दे दी है।मंजूरी के बाद कोविशील्ड की खुराक स्विटजरलैंड जाने वालों के लिए ग्रीन पास दिलाने में मददगार साबित होगी है।

इसके पहले भारत सरकार की ओर से यूरोपीय संघ के सदस्य देशों से कोविशील्ड और कोवैक्सीन को ‘ग्रीन पास स्‍कीम’ के अंतर्गत लाने का आग्रह किया था।

साथ ही कहा था कि यदि ऐसा नहीं होता है,तब वहां से भारत आने वाले नागरिकों के लिए क्‍वारंटीन में रहना होगा। भारत कहा कि कोविशील्ड और कोवैक्सीन की खुराक लेने वाले भारतीयों को यूरोप में प्रवेश की इजाजत दी जाए।

इसके पहले वैक्सीन निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा कि कंपनी को एक महीने के भीतर ही कोविशील्ड के लिए यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) से मंजूरी मिलने का विश्वास है।

यूरोपीय संघ के सदस्य देशों को यह भी बताया गया है कि भारत भी ईयू डिजिटल कोविड प्रमाणपत्र की मान्यता के लिए ऐसी ही पारस्परिक विनिमय वाली नीति बनाएगा।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button