यूट्यूबर से परेशान होकर ‘बाबा का ढाबा’ चलाने वाले बाबा ने खाई थी नींद की गोलियां

नई दिल्ली: ‘बाबा का ढाबा’ चलाने वाले बुजुर्ग कांता प्रसाद को उपचार के बाद सफदरजंग अस्पताल से छुट्टी मिल गई है।

उक्त घटना को लेकर पुलिस के समक्ष बाबा ने अपना बयान दर्ज करवाया है। बयान में उन्होंने कुछ यूट्यूबर द्वारा बार-बार परेशान करने का आरोप लगाया है।

इसके चलते तनाव में आकर उन्होंने नींद की गोलियां खा ली थी। इस बयान को ध्यान में रखते हुए पुलिस अब जांच कर रही है।

जानकारी के अनुसार, बीते 17 जून को बाबा का ढाबा चलाने वाले 81 वर्षीय कांता प्रसाद को उपचार के लिए सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वहां से देर रात पुलिस को इसकी जानकारी दी गई थी।

डॉक्टरों ने पुलिस को बताया था कि बाबा ने काफी शराब पीने के बाद नींद की गोलियां खा ली हैं। पुलिस बाबा द्वारा खुदकुशी के प्रयास किये जाने की आशंका जता रही थी।

वहीं परिवार के लोगों ने दावा किया था कि नींद नहीं आने की वजह से बाबा ने शराब का सेवन करने के बाद नींद की गोली खा ली थी।

पांच दिन तक आईसीयू में रहने के बाद 22 जून को उन्हें वार्ड में शिफ्ट किया गया था। उसके बाद अस्पताल ने गुरुवार को उन्हें छुट्टी दे दी।

यू ट्यूबर कर रहे थे परेशान

इधर घर आने पर दिल्ली पुलिस ने बाबा का बयान दर्ज किया। बाबा ने पुलिस को बताया कि पिछले कुछ दिनों से गौरव और उनके बीच चल रहे विवाद को लेकर कई यू ट्यूबर उन्हें परेशान कर रहे थे।

वह बार-बार उन्हें गौरव से माफी मांगने के लिए भी कह रहे थे। ऐसी कई कॉल बार-बार उन्हें आ रही थी। इसके चलते वह काफी तनाव महसूस कर रहे थे।

इसी तनाव के चलते उन्होंने बीते 17 जून को ज्यादा शराब पी उसके बाद नींद की गोलियां खा ली, जिससे उनकी तबियत बिगड़ गई थी।

पुलिस का कहना है कि वह उन लोगों के बारे में जानकारी इक्ट्ठा कर रहे हैं जिन्होंने बाबा को परेशान किया है।

गौरव से चल रहा था बाबा का विवाद

ज्ञात हो कि कांता प्रसाद का यू ट्यूबर गौरव वासन से विवाद चल रहा था। उन्होंने गौरव पर चंदे में हेराफेरी करने का आरोप लगाते हुए उसके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई थी।

इस एफआईआर के दर्ज होने के बाद गौरव वासन ने बाबा को चार लाख रुपये से ज्यादा की राशि लौटाई जो चंदे के रूप में उसके और उसकी पत्नी के बैंक खाते में आई थी।

इसके बाद से गौरव बाबा से समझौता होने की बात कह रहा था, लेकिन पुलिस का कहना है कि वह गौरव के खिलाफ जल्द ही चार्जशीट दायर करने जा रहे हैं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button