कटिहार में लॉकडाउन-4 के बाद बढ़ा कोरोना संक्रमण

कटिहार में लॉकडाउन-4 के बाद बढ़ा कोरोना संक्रमण

कटिहार: वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण से प्रभावित राज्यों से कटिहार आने वाले प्रवासी मजदूर व अन्य लोगों की वजह से जिले में कोरोना मरीजों की संख्या एकाएक बढ़ने लगी है।

मुम्बई, केरल, दिल्ली सहित देश के कई राज्यों से अबतक हजारों की तादात में प्रवासी मजदूर कटिहार आ चुके है, और आने की सिलसिला जारी है।

जिला प्रशासन द्वारा जारी आकड़ो पर गौर करें तो बीते मंगलवार तक श्रमिक स्पेशल ट्रेन से करीब 52 हजार प्रवासी मजदूर यहां आ चुके हैं, जो बिहार के अन्य जिलों की अपेक्षा ज्यादा है।

लॉकडाउन-4 में बाजार खोलने के आदेश से कोरोना संक्रमण की संभावना जिले में बढ़ गई है। बड़ी संख्या में लोग खरीददारी को लेकर सड़कों पर निकल पड़े है।

बाजार में चहलकदमी को देखकर ऐसा लग रहा है कि लॉकडाउन खत्म हो गया हो। कोरोना संक्रमण को लेकर यह स्थिति आने वाले समय में खतरनाक हो सकती है।

जिला प्रशासन से प्राप्त आकड़ो के अनुसार प्रवासी मजदूरों के लिए प्रखंड स्तर से लेकर पंचायत व गांव तक 580 कोरेन्टीन सेंटर बनाकर अभी तक लगभ 52 हजार प्रवासी मजदूरों को रखा गया है।

कई कोरेन्टीन सेंटर में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन मजाक बनकर रह गया है। सेंटर में रह रहे लोग ग्रुप बनाकर मादक पदार्थों का सेवन कर रहे है, मोबाइल फोन से वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं।

कोरेन्टीन सेंटर से दीवार फांदकर अपने घर जा रहे हैं। इस तरह की घटना से सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि आने वाले विगत कुछ दिनों व महीनों में कोरोना संक्रमण की स्थिति क्या होने वाली है।

जिले से 21 मई तक 843 संदिग्ध व्यक्तियों का कोरोना सेम्पल जांच के लिए भेजा गया है। इनमें से 52 लोगो का रिपोर्ट पॉजिटिव आया है, कटिहार के दो मरीज अन्य राज्यों में जांच के बाद पॉजिटिव पाए गए।

जिला प्रशासन का मानना है कि जैसे-जैसे कोरोना संक्रमित व्यक्ति की संख्या बढ़ेगा वैसे वैसे संसाधनों पर भी दबाव बढ़ेगा। लॉकडाउन-4 के बाद से ही शहर से लेकर कसबों तक पहले वाली स्थिति बनती जा रही है।

एक ओर श्रमिक स्पेशल ट्रेन से यहां आने वाले हजारों की तादाद में प्रवासी तो दूसरी ओर बाजार में बढ़ते चहल कदमी ने कोरोना संक्रमण फैलने की संभावना को और बढ़ा दिया है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए प्रशासन को अब बेहद सख्त होने की जरूरत है।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma