इमरान खान जैसी कप्तानी करनी है तो व्यक्तित्व में भी उनके जैसा बदलाव करें आजम : अख्तर

इमरान खान जैसी कप्तानी करनी है तो व्यक्तित्व में भी उनके जैसा बदलाव करें आजम : अख्तर

लाहौर: पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर और विकेटकीपर राशिद लतीफ ने बाबर आजम को लेकर कहा है कि अगर उन्हें इमरान खान जैसी कप्तानी करनी है तो उन्हें अपने व्यक्तित्व में भी इमरान जैसा बदलाव करना होगा।

बता दें कि पाकिस्तान एकदिवसीय क्रिकेट टीम के नववियुक्त कप्तान बाबर आजम ने कप्तानी मिलने के बाद पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस की तो उन्होंने उन लोगों को जवाब दिया जो उनकी इंग्लिश का मजाक उड़ाते हैं।

बाबर ने साफ कहा कि वो गोरे नहीं हैं जो सारी इंग्लिश आए। उन्होंने कहा था कि वो सीख रहे हैं। बाबर की इस प्रेस कॉन्फ्रेंस से पूर्व पाकिस्तानी दिग्गज शोएब अख्तर और राशिद लतीफ खुश नहीं हैं।

शोएब और राशिद ने बाबर के इंग्लिश को लेकर दिए बयान को लेकर आपत्ति जताई है। इसके साथ ही इन दोनों दिग्गजों का कहना है कि बाबर ने कुछ नया नहीं बोला है। उन्होंने वही सब बातें कहीं हैं, जो पहले से सब जानते हैं।

अख्तर और राशिद का कहना है कि बाबर ने कुछ नया नहीं बोला है। उन्होंने वही सब बातें कहीं हैं, जो पहले से सब जानते हैं। अख्तर ने कहा, ``बाबर आजम इमरान खान जैसे कप्तान बनना चाहते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह सिर्फ क्रिकेट तक सीमित है।

व्यक्तित्व के संबंध में उन्हें पीएम इमरान की पुस्तक से नोट्स निकालने होंगें।`` आजम ने कहा था कि वह पूर्व पाकिस्तानी कप्तान इमरान खान की तरह आक्रामक कप्तान बनना चाहते हैं।

अख्तर ने आगे कहा, ``प्लीज वही बातें मत कहिए, जो हम पिछले 10 सालों से जानते हैं। हम इस बहस को और आगे नहीं बढ़ाना चाहते। बाबर को अपने कम्युनिकेशन स्किल्स,

पर्सनैलिटी बेहतर करने की जरूरत है। उन्हें आगे बढ़कर टीम को लीड करने की ताकत और फिटनेस लेवल और बहुत जगह मेहनत करनी है। मुझे लगता है कि उन्हें अभी बहुत कुछ साबित करना है।``

राशिद लतीफ ने कहा, ``जब एक कप्तान प्रेस कॉन्फ्रेंस में बैठता है तो वह अपना विजन सामने रखता है, लेकिन वह इसमें पूरी तरह से मात खा गए।

हमारे कप्तान ने इंग्लिश को लेकर हेडलाइन दी। इसके साथ उन्होंने विराट कोहली के साथ तुलना पर जो बात कही, वह हम सब पहले से जानते हैं।``

लतीफ ने आगे कहा,``बाबर को दी गई स्क्रिप्ट को फॉलो करने के बजाय एक मजबूत बयान देना चाहिए था। आपने पहले ही दिखा दिया है कि आपका मानसिक दृष्टिकोण और अप्रोच बहुत बेहतर नहीं है।``


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma