झारखंड में चार हजार पारा शिक्षकों को 13 महीनों से मानदेय नहीं दे रही सरकार, मांगें भी कर रही अनसुनी

झारखंड में चार हजार पारा शिक्षकों को 13 महीनों से मानदेय नहीं दे रही सरकार, मांगें भी कर रही अनसुनी

रांची : झारखंड प्रदेश एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा ने कहा है कि राज्य में कार्यरत 65000 पारा शिक्षकों को अप्रैल का मानदेय प्राप्त नहीं हुआ है। जबकि, अन्य विभागों में सरकार द्वारा मई का अग्रिम भुगतान करने के लिए कहा गया है।

ऐसे में राज्य के पारा शिक्षक काफी दुखी हैं। एक तो अल्प मानदेय प्राप्त होता है और कोई भी पर्व के समय भुगतान नहीं होने से काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

Uploaded Image

मोर्चा के सदस्य संजय दुबे ने शुक्रवार को कहा कि लगभग 4000 ऐसे पारा शिक्षक हैं, जिनका मानदेय लगभग 13 महीनों से बाकी है। 2300 ऐसे पारा शिक्षक हैं, जिनका मानदेय लगभग तीन माह से बाकी है और शेष बचे पारा शिक्षक का अप्रैल माह का मानदेय प्राप्त नहीं है।

उन्होंने कहा कि आज के समय में कोविड-19 जैसी महामारी के दौर में समय पर मानदेय भुगतान नहीं होने से राज्य के पारा शिक्षकों के समक्ष भुखमरी की स्थिति पैदा हो गयी है।

अतः मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री और परियोजना निदेशक से आग्रह है कि राज्य में कार्यरत पारा शिक्षक भी उसी प्रकार काम करते हैं, जिस प्रकार अन्य सरकारी कर्मचारी।

उन्होंने कहा कि आज क्वारेंटाइन सेंटर, अस्पताल, गांव, पंचायत, जहां भी हमलोगों को ड्यूटी दी गयी है, हमलोग बखूबी निभा रहे हैं। ऐसे में मानदेय प्राप्त नहीं होने से घर में आर्थिक संकट उत्पन्न हो जाता है।

Uploaded Image

पारा शिक्षकों को मानदेय भुगतान करने की सरकार को पहल करनी चाहिए। साथ ही साथ, स्थायीकरण और वेतनमान की प्रक्रिया, जो अंतिम चरण में थी, उसे भी जल्द लागू करना चाहिए।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma