दिल्ली में डीटीसी बस डिपो में 43 डिग्री की गर्मी में मजदुर सड़क पर करते रहे अपनी बारी का इतंजार

दिल्ली में डीटीसी बस डिपो में 43 डिग्री की गर्मी में मजदुर सड़क पर करते रहे अपनी बारी का इतंजार

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में एक तरफ कोरोना संक्रमण का कहर जारी है, तो वहीं दूसरी तरफ लॉक डाउन के बाद बेरोजगार हो पलायन को मजबूरों को कहीं राहत नहीं मिल रही।

भले ही उनके लिए ट्रेन का प्रबंध हो पर स्टेशन तक जाने के लिए उन्हें घंटों 43 डिग्री की चिलचिलाती गर्मी में खुले आसमान के नीचे अपने महिलाओं और बच्चों के साथ बसों का इंतजार करना पड़त है। फिर भी उनका नंबर आ जाएगा इसका कोई भरोसा नहीं होता।

एसा ही एक नजारा शुक्रवार को द्वारका सेक्टर 2 डीटीसी डिपो के बाहर देखने को मिला, जहां सड़क पर चिलचिलाती धूप में सैकड़ो लोग सर्विस रोड के सड़क पर बैठकर बस के आने पर सवार होने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते दिखे।

यह नजारा यहां रोज ही देखने को मिल रहा है। पर दिल्ली सरकार की स्थानीय प्रशासन यह देखते हुए आंखे मूंदे बैठी है। न ही धूप से बचने के लिए ऊपर तिरपाल की व्यवस्था है औ न ही तपती जमीन पर बैठने के लिए दरी का इंतजाम किया गया है।

इन लोगो में काफी संख्या में महिलाएं और छोटे बच्चे भी हैं। जो रोज सुबह 7 बजे यहाँ आ जाते है और कतार लगा अपनी बारी का इंतजार करते रहते हैं।

लेकिन उन्हें यह भी भरोसा नही होता कि उनका नंबर आएगा या नहीं। लोगों का कहना है कि गर्मी से बचने के लिए कम से काम टोकन की व्यवस्था तो कर दे। ताकि धूप में कतार लगा इंतजार न करनी पड़े।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma