लॉकडाउन का दिखा असर, झारखंड में अलविदा जुमा के दिन सड़को पर पसरा सन्नाटा

लॉकडाउन का दिखा असर, झारखंड में अलविदा जुमा के दिन सड़को पर पसरा सन्नाटा

रांची: रमजान मुबारक का आज आखरी जुमा था। इस जुमे को छोटी ईद भी कहा जाता है। लेकिनलॉक डाउन की वजह से मुसलमानों ने
आज आखरी जुमा की नमाज़ मस्जिद में अदा ना कर सके । इस साल का यह अलविद जुमा की रौनक लॉक डाउन की वजह से फीकी पड़ गई।

इसी तरह इस बार ईद के मौके पर वज़ार में कोई खास रौनक नहीं दिख रहा ह।

जामताड़ा के सुभाष चौक इलाके में ईद के बाजार की रौनक 24 घंटा दिख जाती थी। हर ओर सेवई लच्छा इत्र सुरमा कपड़ा टोपी रुमाल खजूर फल चप्पल जूता से गुलजार रहने वाला बाजार लॉक डाउन की वजह से पूरा शांति और वीरान दिख रहा है।

दर्जनों सेवई लच्छा के दुकान के बदले में एक - दो दुकान मुश्किल से लगा हुआ है। इसमें खरीदार नहीं के बराबर देखे जा रहे हैं।

इस संबंध में दुकानदार मुख्तार अंसारी ने कहा कि लॉक डाउन ने हर खुशी पर ग्रहण लगा दिया। बाजार की रौनक छीन ली है। रमजान और ईद के समय अच्छे कमाई हो जाती थी ।

लेकिन इस बार सब कुछ बर्बाद हो गया। लच्छा और सेवई बन ही नहीं रही है। हल्दीराम का लच्छा 120 से 300 रुपया किलो और लोकल लच्छा 130 रुपया किलो बेच रहे हैं।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma