बिहार में बढ़ी चुनावी हलचल, चुनाव आयोग ने सभी डीएम से मांगी बूथों की रिपोर्ट

बिहार में बढ़ी चुनावी हलचल, चुनाव आयोग ने सभी डीएम से मांगी बूथों की रिपोर्ट

पटना: इस साल के अंत में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं। निर्वाचन आयोग ने राज्य के सभी जिलों के जिलाधिकारियों को पत्र लिखकर मतदान केंद्रों के भौतिक सत्यापन का निर्देश दिया है।

बिहार निर्वाचन विभाग के उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वैजनाथ कुमार सिंह ने सभी जिलों के जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह डीएम को निर्देश दिया है कि आगामी बिहार विधानसभा आम निर्वाचन-2020 को लेकर मतदान केंद्रों का भौतिक सत्यापन करें।

पत्र में कहा गया है कि चुनाव को लेकर मतदान केंद्रों का भौतिक सत्यापन किया जाना है जिसके आधार पर ही मतदान केंद्रों के संबंध में आगे की कार्रवाई की जाएगी।

निर्वाचन विभाग ने विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत पड़ने वाले सभी बूथों का भौतिक सत्यापन कर इसकी रिपोर्ट आगामी 22 जून तक भेजने का निर्देश दिया गया है।

निर्देश में कहा गया है कि मतदान केंद्रों के भौतिक सत्यापन के क्रम में ही निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत मतदान केंद्र बनने की अहर्ता रखने वाले अन्य उपर्युक्त भवनों को भी चिन्हित कर इसकी सूची मतदान केंद्रवार प्रपत्र दो में संधारित करें।

बता दें कि इस बार कोरोना संक्रमण की वजह से चुनाव आयोग के सामने अलग तरह की परेशानी है। दरअसल, इस संकट में बूथों पर भी सोशल डिस्टेंसिंग को अपनाना होगा।

लिहाजा सम्भव है कि बूथ की संख्या बढ़ाई जाए। बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने भी बताया है कि कोविड-19 की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन करना है।

इसको लेकर अगर जरूरत पड़ी तो मतदान केंद्र की संख्या को भी बढ़ाया जा सकता है। क्योंकि एक बूथ पर कम से कम एक हजार वोटर होते हैं।

आयोग को वोटर का भी ध्यान रखना है, कोरोना से बचाव के संबंध में जो प्रोटोकॉल है, उसका पालन करना है और सुरक्षित चुनाव भी कराना है।

जरूरत पड़ी तो मतदान केंद्रों की संख्या बढ़ाने का भी निर्णय लिया जा सकता है।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma