दिल्ली-मुंबई का वायरस पहुंचना झारखंड के लिए खतरनाक, रिम्स के तीन डॉक्टर की 20 दिनों बाद भी रिपोर्ट पॉजिटिव

दिल्ली-मुंबई का वायरस पहुंचना झारखंड के लिए खतरनाक, रिम्स के तीन डॉक्टर की 20 दिनों बाद भी रिपोर्ट पॉजिटिव

डिजिटल डेस्क रांची: झारखंड में कोरोना का वायरस पहले से ज्यादा खतरनाक हो गया है। जून के लास्ट दो सप्ताह के बाद से ही कोरोना वायरस के असर में काफी फर्क देखा जा रहा है। पहले की अपेक्षा में संक्रमित मरीजों में इसका असर और भी गंभीर होता दिख रहा है।

यही वजह है कि मरीजों को ठीक होने में अब ज्यादा समय लग रहा है। नतीजतन राज्य में एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है।

अस्पतालों में भी इसका असर पद रहा है मरीजों की संख्या बढ़ रही है और कम लोगों के देर से ठीक होने से अस्पताल का लोड बढ़ रहा है। रिम्स में कोरोना मरीजों का उपचार कर रहे एक डॉक्टर कहते हैं कि यह सब दिल्ली मुंबई का वायरस पहुंचने की वजह से हुआ है।

यहां एक और डॉक्टर का कहना है कि मरीज के ठीक होने में उसके शरीर में वायरस का लोड (वायरल लोड) कितना है उसका भी असर पड़ता है। बता दें कि रिम्स के तीन डॉक्टर पिछले 20 दिनों से कोविड वार्ड में भर्ती हैं। अभी उनकी रिपोर्ट निगेटिव नहीं हुई है। धनबाद की एक महिला की 17 दिनों के बाद निगेटिव रिपोर्टआई है।

जोड़ा तालाब और कोकर का एक मरीज 15 दिनों में स्वस्थ हुआ है।जिस मरीज का वायरल लोड ज्यादा है, उसे ठीक होने में भी समय लगता है। वह कहते हैं पहले की तुलना में अब के मरीजों में वायरल लोड बढ़ा है।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma