झारखंड में यहां ग्रमीणों से संवाद में विधायक अंबा प्रसाद की मौजूदगी में सोशल डिस्टेंस को ठेंगा

झारखंड में यहां ग्रमीणों से संवाद में विधायक अंबा प्रसाद की मौजूदगी में सोशल डिस्टेंस को ठेंगा

न्यूज़ अरोमा हजारीबाग: राज्य सरकार द्वारा बड़कागांव में एनटीपीसी व ग्रामीणों के बीच के गतिरोध को समाप्त करने के लिए आयुक्त कमल जाॅन लकड़ा की अध्यक्षता में बनाई गई उच्च स्तरीय कमेटी ने शनिवार को प्रखंड सभागार में आम लोगों से जनसंवाद किया।

इस दौरान ग्रामीणों व जन प्रतिनिधियों की बातें सुनी गई। ऐसे में तस्वीरों में एक तरफ सोशल डिस्टेंस की भी धज्जियां उड़ती हुई साफ़ दिख रही है। यहां विधायक अंबा प्रसाद भी पहुंची थी भीड़ ऐसी हुई की लोग कोरोना महामारी के बढ़ते केस को भूल गए और इस तरह भीड़ जमा हुई की मानो सबकुछ ठीक हो गया हो और महामारी इस देश से ख़त्म ही हो गया है।

बैठक में आम लोगों का आरोप

बैठक में आम लोगों का आरोप था कि एनटीपीस में स्थानीय लोगों के लिए रोजगार नहीं है। तकनीकी विशेषज्ञों की कौन कहे सब्जी काटने वाले और पानी पिलाने वाले भी बाहर से ही आते हैं। और तो और एनटीपीसी में त्रिवेणी सैनिक माइनिंग लिमिटेड को कोयला खनन के लिए अधिकृत किया है।

ऐसे में यह कंपनी भी स्थानीय लोगों को रोजगार न देकर बाहर के लोगों को रोजगार देने का काम करती है।

यह भी आरोप लगाया गया कि बिना मुआवजा के लोगों की जमीन ले ली गई। विशेषकर गैर मजरूआ के मामले में और उसपर कंपनी द्वारा काम किया जा रहा है। और तो और हक की बात करने पर मुकदमें में फंसाकर जेल भेज दिया जाता है। लोगों ने 20 लाख प्रति एकड़ मुआवजा के स्थान पर 1 करोड़ प्रति एकड़ मुआवजे की मांग की।

साथ ही ग्रामीणों पर लादे गए मुकदमें को वापस लेने पर जोर दिया। ग्रामीणों व जन प्रतिनिधियों ने रैयतों को स्थायी नौकरी दिए जाने की भी मांग की।

विधायक अंबा प्रसाद ने कहा कि राज्य सरकार की गठित कमेटी लोगों से संवाद कर रिपोर्ट तैयार करते हुए सरकार को सौंपेंगी।

उन्होंने संभावना जताई कि कमेटी के रिपोर्ट के आधार पर सरकार द्वारा इस मामले का समाधान किया जा सकेगा। बैठक में आयुक्त अंबर लकड़ा के अलावा विधायक अंबा प्रसाद, जिला परिषद अध्यक्ष सुशीला देवी, उप विकास आयुक्त अभय कुमार सिन्हा, एनटीपीसी के कार्यकारी निदेशक प्रशांत कश्यप सहित कई अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma