कांग्रेस और विपक्षी कृषि बिलों के बारे में फैला रहे हैं भ्रम: केन्द्रीय कृषि राज्यमंत्री

कांग्रेस और विपक्षी कृषि बिलों के बारे में फैला रहे हैं भ्रम: केन्द्रीय कृषि राज्यमंत्री

जयपुर:  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने किसान कल्याण एवं राष्ट्रहित में मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिलों के बारे में कांग्रेस सहित विपक्ष पर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है। उन्होंने अपने समर्थकों और भाजपा कार्यकर्ताओं से किसानों को जागरूक करने का आह्वान किया है।

केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री ने कहा कि किसान कल्याण और राष्ट्रहित में मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिल वास्तव में किसानों की आय बढ़ाने की दिशा में मील का पत्थर साबित होंगे। इससे किसान को कई विकल्प मिलेंगे। इससे अब किसान मंडी के बाहर भी अपने उत्पाद बेच सकेंगे। इन पर किसी तरह का टैक्स नहीं लगेगा।

इसका भुगतान तत्काल या तीन दिन में करना होगा। इन नये कानूनो से अंतरराज्यीय व्यापार खुलेगा। उन्होंने अपने जन्मदिन के अवसर पर समर्थकों और पार्टी कार्यकर्ताओं से किसानों को इन बिलों के बारे में सही जानकारी देने और कांग्रेस के षड्यंत्रों की पोल खोलने का आह्वान किया। कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि ये बिल किसान को आजादी देने वाले हैं।

इसमें एमएसपी के खरीद को खत्म करने की बात कहकर भ्रम फैलाया जा रहा है। मैं सभी किसानों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि एमएसपी खत्म नहीं होगी। इस बिल से एमएसपी का कोई संबंध नहीं है।

किसानों की आय बढ़ेगी
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आज किसान अपने घर से मंडी तक फसल लाता है तो उसको किराया देना पड़ता है। लाइसेंसी व्यापारी बोली लगाते हैं तो उसमें ही उसे फसल बेचनी पड़ती है।

इस बिल से किसान किसी भी राज्य में बेच सकेगा। इसके लिये सरकार मैकेनिज्म बनायेगी. वह दूसरे राज्यों में घर बैठे फसल व्यापारियों को बेच सकेगा। इससे लॉजिस्टिक का खर्चा बचेगा। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार किसानों की आय बढ़ाने के लिये कई तरफ से कार्य कर रही है। ये रिफॉर्म्स भी उसका हिस्सा हैं।

आय बढ़ाने के लिये कृषि उत्पादक संगठन (एफपीओ), पीएम किसान जैसे कार्य किये हैं। कृषि के क्षेत्र में 1 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया जा रहा है। सरकार किसानों की आय बढाने के लिये निरंतर प्रयास कर रही है।


Please Support News Aroma!

news aroma