केंद्र का रवैया नही बदला तो जनता के लिए एक और संघर्ष के लिए पार्टी पूरी तरह तैयार: विनोद पांडेय

केंद्र का रवैया नही बदला तो जनता के लिए एक और संघर्ष के लिए पार्टी पूरी तरह तैयार: विनोद पांडेय

न्यूज़ अरोमा रांची: झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) ने कहा है कि केंद्र का असहयोगात्मक रवैया झारखंड सरकार के प्रति रहा है। 29 दिसंबर 2019 को राज्य सरकार का गठन हुआ।

इसके बाद से सरकार जनता की अपेक्षा के अनुरूप काम कर रही है। लेकिन केंद्र सरकार के निर्देश पर आरबीआई द्वारा डीवीसी द्वारा राज्य सरकार के खाते से बकाया मद का पैसा काट लिया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है।

झामुमो महासचिव सह प्रवक्ता विनोद कुमार पांडेय ने शनिवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि झामुमो संघर्ष से बनी हुई पार्टी है।

अगर जनता के लिए संघर्ष करना पड़े तो पार्टी पूरी तरह तैयार है। केंद्र सरकार का रवैया झारखंड सरकार के प्रति बर्दाश्त करने लायक नहीं है। उन्होंने कहा कि झारखंड के संसाधनों से पूरा देश जगमगाता है।

लेकिन केंद्र सरकार अपनी पीठ थपथपाती है। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और झामुमो अध्यक्ष शिबू सोरेन से बात होगी।

साथ ही हेमंत सोरेन से कहा जाएगा कि वह केंद्र और प्रधानमंत्री से बात करें कि केंद्र अपने रवैए के प्रति परिवर्तन लाये।

अगर केंद्र सरकार अपने रवैए में परिवर्तन नहीं लाती है तो हम झारखंड के संसाधनों को बाहर जाने से बंद कर लेंगे।

झारखंड का केंद्र सरकार के पास लगभग 75 हजार करोड रुपए बकाया है। हम अपने हक, अधिकार और विकास के पैसे को नहीं देंगे।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma