गूगल प्ले स्टोर से 500 करोड़ बार इंस्टॉल वाला पहला नॉन गूगल ऐप बना फेसबुक

गूगल प्ले स्टोर से 500 करोड़ बार इंस्टॉल वाला पहला नॉन गूगल ऐप बना फेसबुक

मुंबई : सोशल मीडिया साइट फेसबुक ने एक नया कीर्तिमान स्थापित कर लिया है। फेसबुक ने गूगल प्ले स्टोर पर 5 बिलियन यानी 500 करोड़ इंस्टॉल का आंकड़ा पार कर लिया है।

इसी के साथ फेसबुक पहली नॉन गूगल ऐप बन गई है जिसे प्ले स्टोर से 500 करोड़ बार इंस्टॉल किया जा चुका है। अभी तक सिर्फ प्री-इंस्टॉल गूगल ऐप जैसे गूगल प्ले, गूगल ड्राइव ही 5 बिलियन इंस्टॉल की लिस्ट में शामिल थीं।

पांच साल पहले फेसबुक ने एक बिलियन यानी 100 करोड़ इंस्टॉल का रिकॉर्ड बनाया था।

स समय भी फेसबुक पहली नॉन गूगल ऐप थी जिसने वन मिलियन इंस्टॉल का रिकॉर्ड बनाया। 100 करोड़ से 500 करोड़ तक पहुंचने में कंपनी को पांच साल का समय लगा।

इस नए कीर्तिमान को देखते हुए फेसबुक की दिनोंदिन बढ़ती लोकप्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है।

फेसबुक ने हुवावे, एलजी, श्याओमी जैसी स्मार्टफोन कंपनियों का शुक्रिया किया जिन्होंने अपनी डिवाइस में फेसबुक को प्री-इंस्टॉल ऐप के रूप में शामिल किया।

एआर चशमा बना रही है कंपनी

फेसबुक और रेबेन की पेरेंट कंपनी लुक्सोटिका मिलकर ऑग्मेंटेड रियलिटी तकनीक से लैस चश्मा बना रही है। रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी यूएस पेटेंट एंड ट्रेडमार्क ऑफिस में इसका इसका पेटेंट फाइल करा चुकी है।

फेसबुक के इस एआर ग्लास की मदद से यूजर कॉलिंग के अलावा सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लाइव स्ट्रीमिंग भी कर सकेंगे। इसे स्मार्टफोन के रिप्लेसमेंट के तौर पर भी देखा जा रहा है।

रिपोर्ट के मुताबिक यह 2025 तक बाजार में उपलब्ध होगा। फेसबुक का यह एआर ग्लास, गूगल ग्लास को चुनौती देगा।

फेसबुक को इस प्रोजेक्ट को पूरा करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था, जिसके बाद चश्मे बनाने वाली कंपनी लुक्सोटिका

इस प्रोजक्ट को पूरा करने में फेसबुक की मदद कर रही है।

लुक्सोटिका, चश्मे का पॉपुलर ब्रांड रेबेन की पेरेंट कंपनी है। यह एक इनोवेटिव डिवाइस होगा। रिपोर्ट के मुताबिक इसे स्मार्टफोन को रिप्लेसमेंट के तौर पर देखा जा रहा है।

यूजर इसकी मदद से कॉलिंग कर सकेंगे। इसकी डिस्प्ले पर सारी महत्वपूर्ण जानकारियां देखी जा सकेंगी। इसके साथ ही इसके ग्लास की मदद से सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लाइव स्ट्रीमिंग भी की जा सकेगी।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma