2018 में पाकिस्तान ने चीन को बेचीं 629 दुल्हनें

2018 में पाकिस्तान ने चीन को बेचीं 629 दुल्हनें

लाहौर : पाकिस्तान से एक चौंकाने वाली खबर के बाद पूरे देश में हड़कंप मच गया है। देश भर की 629 लड़कियों को दुल्हन के रूप में चीन को बेचा गया है।

पाकिस्तानी जांचकर्ताओं के द्वारा बनी इस सूची के अनुसार, साल 2018 से इन लड़कियों को चीनी पुरुषों के हाथों में बेचा गया। इस सूची को बनाने का मकसद गरीब लड़कियों की मानव तस्करी का जाल तोडऩा था।

वहीं, पाक सरकार इस मामले को दबाने की कोशिश कर रही है। इस जांच की जानकारी रखने वाले अधिकारियों का कहना है कि सरकार को डर है कि इससे चीन के साथ उसके रिश्ते खराब हो सकते हैं।

इसी वजह से मानव तस्करों के खिलाफ चलाया जा रहा सबसे बड़ा मामला बंद हो गया था। अक्तूबर में फैसलाबाद की एक अदालत ने तस्करी के सिलसिले में आरोपित 31 चीनी नागरिकों को बरी कर दिया।

महिलाएं सामने आने को तैयार नहीं

इस मामले की जानकारी रखने वाले जांचकर्ताओं और कोर्ट के अधिकारियों के अनुसार, शुरू में पुलिस ने जिन महिलाओं से पूछताछ की, उन्होंने गवाही से इनकार कर दिया क्योंकि उन्हें या तो धमकी दी गई थी अथवा पैसे का लालच दिया गया था।

दो महिलाओं ने अपनी पहचान न उजागर करने की शर्त पर इस मामले की जानकारी दी, क्योंकि उन्हें डर था कि उनका नाम सामने आने के बाद समाज से उनको अलग कर दिया जाएगा।

पर्दा डालने की कोशिश

कई युवा लड़कियों को चीन से वापस लाने में उनके माता-पिता की मदद करने वाले और कई लड़कियों को चीन जाने से रोकने वाले ईसाई कार्यकर्ता सलीम इकबाल ने कहा कि सरकार अब इस जांच पर पर्दा डालने की कोशिश में है।

जांच एजेंसी के अधिकारियों पर जबरदस्त दबाव है। उन्होंने कहा कि कई अधिकारियों के तबादले कर दिए गए हैं और पाकिस्तान के नेता इस मामले पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।

मीडिया पर भी बनाया जा रहा दबाव

एक अधिकारी ने नाम उजागर न करने की शर्त पर बताया कि पाकिस्तानी मीडिया को भी मानव तस्करी नेटवर्क की खबरें प्रकाशित करने से रोका जा रहा है।

लड़कियों को बचाने के लिए कोई भी कुछ नहीं कर रहा है। यह पूरा रैकेट बदस्तूर चल रहा है और बढ़ता जा रहा है क्योंकि वे जानते हैं कि इससे वे आसानी से बच निकलेंगे। अधिकारियों पर जांच नहीं करने का दबाव है।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma