भारतीय बाजार में हर छह महीने में नया वाहन पेश करेगी किआ मोटर्स

भारतीय बाजार में हर छह महीने में नया वाहन पेश करेगी किआ मोटर्स

अनंतपुर : दक्षिण कोरिया की वाहन बनाने वाली कंपनी किया मोटर्स वाहन क्षेत्र में मंदी के बावजूद भारत को लेकर उत्साहित होकर हर छह महीने में नया वाहन पेश करने की योजना बना रही है।

कंपनी अगले साल की शुरूआत में लक्जरी बहु-उपयोगी वाहन (एमपीवी) कार्निवल पेश करेगी। कंपनी का दावा है कि सुविधाओं के मामले में यह देश में अपनी तरह का पहला वाहन होगा।

किया मोटर्स का मानना है कि सरकार ने कंपनी कर में कटौती सहित सुधारों को लेकर जो कदम उठाएं हैं, उससे अगले वित्त वर्ष से आर्थिक वृद्धि तेज होगी और वाहनों की मांग बढ़ेगी।

कंपनी के एक अधिकारी के अनुसार इसकी कीमत 30 लाख रुपये से ऊपर होगी।

अल्टो जैसी कम कीमत वाली कार लाने के बारे में भट्ट ने कहा कि इस प्रकार के वाहन लाने की हमारी योजना नहीं है।

हालांकि, उन्होंने कहा कि अगले साल की शुरूआत में होने वाली वाहन प्रदर्शनी में हम 8 से 10 लाख की श्रेणी में वाहन ला सकते हैं। उन्होंने कहा, ग्राहकों की रूचि बदल रही है और उसके अनुसार हम वाहन लाएंगे।

नए निवेश के बारे में पूछे जाने पर भट्ट ने कहा,अनंतपुर कारखाने की उत्पादन क्षमता तीन लाख इकाई सालाना है। तीन पाली के बजाए हम फिलहाल केवल दो पाली में काम कर रहे हैं। यानी अभी क्षमता का दो तिहाई ही उपयोग हो पा रहा है।’’
इस कारखाने में कंपनी फिलहाल एसयूवी सेल्टोस बना रही है। अगस्त में पेश इस गाड़ी की अब तक 75,000 इकाइयां बुक हो चुकी है।

विशेषज्ञ इस कंपनी का शानदार प्रदर्शन बता रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘सेल्टोस को लेकर ग्राहकों की जो प्रतिक्रिया मिली है, उससे हम बहुत खुश हैं।

निर्यात से जुड़े सवाल के जवाब में किया मोटर्स इंडिया के उपाध्यक्ष ने कहा, भारत हमारे लिये प्राथमिकता वाला बाजार है। फिलहाल हमारा जोर घरेलू बाजार पर है।

हम यहां से निर्यात भी करने वाले हैं, लेकिन अभी हम घरेलू बाजार पर ध्यान दे रहे हैं। वाहन क्षेत्र में मौजूदा नरमी के बारे में उन्होंने कहा, निश्चित रूप से नरमी है।

मांग में 12-13 प्रतिशत की कमी आई है। लोगों की खरीदने की इच्छा कम हुई है और इसका कारण कुल मिलाकर आर्थिक स्थिति का उतना अच्छा नहीं होना है जो 2-3 साल पहले थी।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma