गायत्री परिवार का 30 जनवरी से 40 दिवसीय साधना और वृक्ष गंगा अभियान

गायत्री परिवार का 30 जनवरी से 40 दिवसीय साधना और वृक्ष गंगा अभियान

बेगूसराय : युग परिवर्तन के चक्र को तीव्र करने तथा नव सृजन की गतिविधियों को शक्ति एवं संरक्षण प्रदान करने के लिए अखिल विश्व गायत्री परिवार 40 दिवसीय विश्व स्तरीय साधना अनुष्ठान करने जा रहा है।

वसंत पर्व से फाल्गुन पूर्णिमा (30 जनवरी से 10 मार्च 2020) तक के इस साधना अनुष्ठान में 24 हजार साधकों द्वारा अपने घर पर साधना की जाएगी।

इसके बाद सभी साधक दस याजकों को प्रशिक्षित कर कम से कम दस घरों में सात मई (वैशाख पूर्णिमा-बुद्ध पूर्णिमा) को गृहे- गृहे यज्ञ अभियान में यज्ञ कराएंगे, ताकि व्यक्ति निर्माण के साथ वातावरण परिशोधन का क्रम एक साथ चल पड़े एवं कार्यकर्ताओं का सुनियोजन भी हो।

वृक्ष गंगा अभियान में 24 हजार साधक, तरुपुत्र, तरुमित्र योजना में भाग लेकर वृक्ष देव की स्थापना का संकल्प तथा वृक्ष को पितृवत, मित्रवत पालने, रक्षा करने एवं संवर्धन करने के लिए भी तत्पर रहेंगे।

गायत्री परिवार के जिला संयोजक शैलेन्द्र किशोर झुनझुन ने बताया कि 2026 में माताजी भगवती देवी शर्मा का जन्म, अखण्ड दीप प्रज्वलन एवं महर्षि अरविन्द के मानस अवतरण की शताब्दी मनाई जानी है।

प्रखर साधना के अभाव में सभी सामाजिक, सांस्कृतिक आंदोलन धराशायी हो गये हैं। युग निर्माण आन्दोलन इसलिए प्रखर है कि इसमें ऋषियुग्म का तप एवं युग साधकों की प्रखर साधना है।

इस विषम बेला में और अधिक प्रखरता की अपेक्षा की जा रही है, जिसके लिए शांतिकुंज से 2026 तक वार्षिक चालीस दिवसीय अनुष्ठान की योजना बनाई गई है।

गुरुदेव पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य ने 24 वर्षों तक जौ की रोटी और छाछ पर तप किया, हम यथा संभव 40 दिनों तक नमक या शक्कर का त्याग करेंगे।

उन्होंने जीवनकाल में करीब 32 सौ पुस्तकें लिखीं, हम 40 दिनों में दो- तीन पुस्तकों का स्वाध्याय तो कर सकते हैं।

उन्होंने करोड़ों साधकों का निर्माण किया, हम अपने जैसे और अपने से बेहतर 24 व्यक्तियों को साधक, कार्यकर्ता बनाएंगे, तभी हम उनके पुत्र कहलायेंगे, इससे कम में बात नहीं बनेगी।

झुनझुुन ने बताया कि स्वाध्याय से श्रद्धा संवर्धन होता है। इसलिए गायत्री महाविज्ञान, हमारी वसीयत विरासत, महाकाल की प्रत्यावर्तन प्रक्रिया एवं लोकसेवियों के दिशा बोध के लिए उपरोक्त पुस्तकों का अनिवार्य स्वाध्याय भी होगा।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma