पटना के बांसघाट विद्युत शवदाह गृह में खगेन्द्र ठाकुर की हुई अंत्येष्टि

पटना के बांसघाट विद्युत शवदाह गृह में खगेन्द्र ठाकुर की हुई अंत्येष्टि

पटना : हिंदी के प्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक खगेन्द्र ठाकुर के पार्थिव शरीर मंगलवार को पंचतत्व में विलीन हो गया। पटना के बांसघाट स्थित विद्युत शवदाह गृह में उनकी अंत्येष्टि की गयी।

उनके बेटे भास्कर ने उन्हें मुखाग्नि दी। इस मौके पर भाकपा समेत अन्य वामदलों के कई नेता व कार्यकर्ताओं के साथ बड़ी संख्या में साहित्यकार भी मौजूद थे।

बता दें कि हिंदी के ख्यातिलब्ध मार्क्सवादी आलोचक खगेन्द्र ठाकुर का निधन सोमवार को पटना के फुलवारीशरीफ स्थित एम्स में हो गया। 83 वर्षीय खगेन्द्र जी पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे।

अंत्येष्टि से पहले उनका पार्थिव शरीर राजधानी के राजीव नगर स्थित उनके आवास से अदालतगंज में जनशक्ति भवन स्थित भाकपा के राज्य कार्यालय लाया गया जहाँ भाकपा समेत अन्य वामदलों के नेताओं व कार्यकर्ताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।

इस मौके पर राज्य के सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री नीरज कुमार ने भी ठाकुर के पार्थिव शरीर पर माल्यार्पण किया।

खगेन्द्र ठाकुर को श्रद्धांजलि देने वालों में हिंदी साहित्यकार आलोक धन्वा, अवधेश प्रीत, संतोष दीक्षित, अनिल विभाकर ,राजेंद्र राजन, राजकिशोर राजन, रामदेव सिंह, प्रेमकुमार मणि समेत कई लोग उपस्थित थे। खगेन्द्र जी लम्बे समय तक प्रगतिशील लेखक संघ के पदाधिकारी रह चुके थे।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma