चारा घोटाला : 139 करोड़ निकासी मामले में 16 जनवरी को अदालत में पेश होंगे लालू यादव

चारा घोटाला : 139 करोड़ निकासी मामले में 16 जनवरी को अदालत में पेश होंगे लालू यादव

न्यूज़ डेस्क रांची : देश के बहुचर्चित चारा घोटाले के डोरंडा कोषागार मामले में 139 करोड़ रुपये अवैध निकासी मामले (आरसी 47ए/96) में चारा घोटाला के चार मामलों के सजायाफ्ता बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का बयान 16 जनवरी को दर्ज किया जायेगा।

मंगलवार को सुनावई के दौरान सीबीआई के विशेष जज एसके शशि की अदालत ने यह आदेश जारी किया। साथ ही अदालत ने जेल प्रशासन को भी आदेश दिया है कि 16 जनवरी को लालू यादव को अदालत में हाजिर किया जाये।

Uploaded Image

आज जिरह के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के अधिवक्ता ने उनके खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए सशरीर उपस्थिति से छूट देने का कोर्ट से आग्रह किया। साथ ही रिम्स से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बयान दर्ज कराने का आग्रह किया था।

बिहार के पूर्व मंत्री विद्यासागर निषाद का सीबीआई कोर्ट में बयान दर्ज

इसके अलावा चारा घोटाले के डोरंडा कोषागार मामले में मंगलवार को बिहार के तत्कालीन पशुपालन मंत्री विद्यासागर निषाद का सीबीआई कोर्ट में बयान दर्ज किया गया।

इस दौरान न्यायाधीश एसके शशि की अदालत में पूर्व मंत्री से 12 सवाल पूछे गये। जवाब में उन्होंने सिर्फ यही कहा कि मंत्री रहने के दौरान कई लोग उनसे मिलने आते रहते थे, वह इस मामले में निर्दोष हैं।

फर्जी आवंटन के आधार पर निकाले गये थे 139 करोड़ रुपये

डोरंडा कोषागार से फर्जी आवंटन पत्र के आधार पर 139 करोड़ रुपये की अवैध निकासी के इस मामले में पहले से चारा घोटाले के चार मामलों में सजायाफ्ता बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव भी आरोपी हैं।

Uploaded Image

इस मामले में अब कुल 111 आरोपित ट्रायल फेस कर रहे हैं। तीन अन्य आरोपियों का बयान दर्ज होना बाकी है। 108 आरोपितों के बयान दर्ज हो चुके हैं। इसमें कई नौकरशाह और सप्लायर शामिल हैं।

डॉ. शिवनंदन प्रसाद बीमार होने के कारण बयान दर्ज कराने नहीं आ सके। सीबीआई इनका बयान शपथ पत्र के जरिये अस्पताल जाकर ले सकती है।

सभी आरोपियों के बयान दर्ज होने के बाद आरोपियों की ओर से अपने बचाव में जो गवाह पेश किये जाएंगे, उनकी गवाही होगी। उसके बाद मामले में फाइनल बहस होगा। बहस के बाद अदालत मामले में अपना फैसला सुनाएगी।

दुमका, देवघर और चाईबासा कोषागार मामले में सीबीआई कोर्ट ने सुनाई है सजा

लालू को चारा घोटाले के दुमका, देवघर और चाईबासा कोषागार मामले में सीबीआई कोर्ट ने सजा सुनाई है। अवैध निकासी के दुमका मामले में पांच तथा चाईबासा मामले में लालू को सात साल की सजा हुई है।

इसके अलावा चारा घोटाले से जुड़े देवघर कोषागार से लगभग 89 लाख रुपये की अवैध निकासी के मामले में 23 दिसंबर 2017 को बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को दोषी ठहराया था।

Uploaded Image

इस मामले में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने लालू यादव को साढ़े 3 साल की सजा सुनाई थी। लालू सजा की आधी अवधि जेल में काट चुके हैं।

सुप्रीम कोर्ट के अनुसार, सजा की आधी अवधि जेल में काटने पर सजायाफ्ता को जमानत दी जा सकती है। इसी को आधार बनाकर लालू यादव ने झारखंड उच्च न्यायालय में जमानत याचिका दाखिल की थी।

17 मार्च 2018 से रिम्स में इलाजरत हैं लालू

पिछले साल 17 मार्च को लालू की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें पहले रांची के रिम्स (राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज) और फिर दिल्ली एम्स में भर्ती किया गया था। कोर्ट ने उन्हें 11 मई को इलाज के लिए छह हफ्ते की पैरोल मंजूर की थी।

इसे बढ़ाकर 14 और फिर 27 अगस्त तक किया। इसके बाद कोर्ट ने 30 अगस्त को लालू को कोर्ट में सरेंडर करने का निर्देश दिया था। उसके बाद से लालू रिम्स में इलाजरत हैं। वे रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती हैं।

Uploaded Image

लालू अनियंत्रित डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट की बीमारी, क्रॉनिक किडनी डिजीज (स्टेज थ्री), फैटी लीवर, पेरियेनल इंफेक्शन, हाइपर यूरिसिमिया, किडनी स्टोन, फैटी हेपेटाइटिसए प्रोस्टेट आदि बीमारी से पीड़ित हैं।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma