निर्भया के एक दोषी ने राष्ट्रपति को लगाई दया याचिका

निर्भया के एक दोषी ने राष्ट्रपति को लगाई दया याचिका

नई दिल्ली : निर्भया गैंगरेप मामले दोषी मुकेश सिंह ने राष्ट्रपति को अपनी दया याचिका से संबंधित एक पत्र तिहाड़ जेल प्रशासन को सौंपा है। तिहाड़ प्रशासन अब इस पत्र को दिल्ली सरकार को भेजेगा।

जिसे बाद में दिल्ली सरकार से होते हुए दया याचिका गृह मंत्रालय और बाद में राष्ट्रपति के पास पहुंचेगा। बता दें कि निर्भया केस में सुप्रीम कोर्ट ने दो दोषियों की क्यूरेटिव पेटिशन खारिज कर दी है।

दोनों दोषियों की मौत की सजा को बरकरार रखा गया है। सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों ने विनय शर्मा और मुकेश की क्यूरेटिव याचिका खारिज की है।

चैंबर में लिए गए फैसले में कहा गया है कि याचिका में कोई आधार नहीं। दोनों दोषियों के लिए आखिरी कानूनी दरवाजा भी बंद हो गया।

जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस आर एफ नरीमन, जस्टिस आर बानुमति और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने फैसला दिया है।

बता दें, पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों को 22 जनवरी की सुबह सात बजे फांसी के लिए डेथ वारंट जारी किया है। दोनों दोषियों के पास राष्ट्रपति के पास दया याचिका दाखिल करने का विकल्प बाकी है। बाकी दो दोषियों अक्षय और पवन ने क्यूरेटिव याचिका अभी तक दाखिल नहीं की है।

बता दें, कोर्ट की सुनवाई से पहले निर्भया केस में दोषी विनय शर्मा के वकील ने एपी सिंह ने कहा था कि हमने क्यूरेटिव पिटीशन में कहा है कि साल 2017 के बाद 17 रेप और मर्डर के केस हैं जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने मौत की सजा को उम्रकैद में तब्दील कर दिया है।

सुप्रीम कोर्ट इस मामले में भी अपने फैसले पर फिर से विचार करे। इसके आगे हम राष्ट्रपति के सामने भी दया याचिका देंगे।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma