IKEA ने मेड-इन इंडिया मग्स को वापस मंगाया

IKEA ने मेड-इन इंडिया मग्स को वापस मंगाया

नई दिल्ली: आइकिया ने दुनियाभर से अपने मेड-इन इंडिया मग्स को वापस मंगाकर इनका इस्तेमाल बंद करने के लिए कहा था। आइकिया के इन मग्स में कथित तौर पर केमिकल का ज्यादा अंश होने की आशंका थी।

कंपनी इस मामले को लेकर काफी चिंतित है। यहीं वजह है कि मामले की जांच के लिए पिछले हफ्ते कंपनी की फैक्ट फाइंडिंग टीम भारत आई थी। यह जानकारी मामले से वाकिफ दो सूत्रों ने दी है।

कंपनी को ज्यादा केमिकल की दिक्कत की वजह से दुनियाभर में इन मग्स को वापस लेना पड़ा था। सूत्र ने बताया कि पिछले हफ्ते आइकिया की कंप्लायंस टीम जांच के लिए वड़ोदरा स्थित शैली इंजिनियरिंग पहुंची थी। कथित तौर पर इसी कंपनी ने खराब मगों की सप्लाई की थी।


स्वीडन की फर्नीचर और होम प्रॉडक्ट्स बनाने वाली कंपनी आइकिया ने ऐलान किया था कि वह दुनियाभर के अपने 400 से अधिक स्टोर से ट्रोलिटिविक्स ब्रैंडेड मग्स को वापस ले रही है। भारत में कीमत 129 रुपये प्रति मग थी।

आइकिया ने इस प्रॉडक्ट को अक्टूबर 2019 से दुनियाभर में बेचना शुरू किया था। वहीं,शैली इंजीनियरिंग के चीफ स्ट्रैटिजी ऑफिसर संजय शाह ने कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma