एयरटेल के बाद वोडा-आइडिया भी एजीआर बकाया चुकाने को तैयार 

एयरटेल के बाद वोडा-आइडिया भी एजीआर बकाया चुकाने को तैयार 

नई दिल्‍ली : समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) बकाया भुगतान को लेकर सुप्रीम कोर्ट की फटकार और दूरसंचार विभाग (डीओटी) के नोटिस का असर अब दिखने लगा है।

भारती एयरटेल के बाद वोडाफोन-आइडिया ने भी एजीआर बकाया चुकाने का प्रस्‍ताव सरकार को दिया है। वोडाफोन-आइडिया ने यह प्रस्‍ताव शनिवार को दिया।

शेयर बाजार को कंपनी की तरफ से गई जानकारी में बताया गया है कि वह फिलहाल इस बात का आकलन कर रही है कि उसके ऊपर सरकार की कितनी देनदारी है।

कंपनी ने कहा है कि वह अगले कुछ दिनों में बकाया राशि का भुगतान कर देगी। हालांकि, कंपनी ने यह नहीं बताया कि वह रुपये कहां से जुटाएगी।

गौरतलब है कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने टेलिकॉम कंपनियों और सरकार को एजीआर बकाया भुगतान को लेकर तल्‍ख टिप्‍पणी की थी और कड़ी फटकार भी लगाई थी, जिसके बाद डीओटी ने 14 फरवरी को रात्री 11.59 बजे तक बकाए भुगतान का वक्‍त दिया था। 

सुप्रीम कोर्ट के आदेश और दूरसंचार विभाग के अल्‍टीमेटम के बाद एयरटेल ने कहा कि वह 20 फरवरी को 10 हजार करोड़ रुपये अकाउंट में जमा कर देगा और शेष बकाया राशि वह सुप्रीम कोर्ट की अगली सुनवाई 17 मार्च के दिन जमा करेगा।

गौरतलब है कि वोडाफोन-आइडिया पर 53,038 करोड़ रुपये का बकाया है, जिसमें 24,729 करोड़ रुपये स्‍पेक्‍ट्रम का बकाया और शेष 28,309 करोड़ रुपये लाइसेंस शुल्‍क है। वहीं, एयरटेल पर 35 हजार करोड़ रुपये का बकाया है।

उल्‍लेखनीय है कि टेलिकॉम कंपनियों पर लगभग 1.47 लाख करोड़ रुपये का एजीआर बकाया है। सुप्रीम कोर्ट ने इसके भुगतान के लिए 17 मार्च तक का समय दिया है। 1.47 लाख करोड़  में 92642 करोड़ लाइसेंस फीस है और बकाया 55,054 करोड़ रुपये स्पेक्ट्रम चार्जेज हैं।


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma