बिहार में कोरोना के संदिग्धों को लेकर जांच टीम का गठन

बिहार में कोरोना के संदिग्धों को लेकर जांच टीम का गठन

पटना : बिहार में कोरोना वायरस के संदिग्‍ध मरीजों को देखते हुए केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने जांच टीम का गठन किया है। राज्‍य में अभी तक कोरोना वायरस के कुल 22 संदिग्‍ध मामले मिले हैं। हालांकि, उनमें किसी में भी बीमारी की पुष्टि नहीं हुई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने एहतियातन बिहार में कोरोना वायरस की जांच के लिए मेडिकल टीम का गठन किया है। इसमें डॉ. अनुभव श्रीवास्‍तव, डॉ. हरीश गुप्‍ता, डॉ. प्रभात कुमार व अन्‍य शामिल हैं।

बिहार नेपाल की सीमा से सटा राज्‍य है, जहां चीन के लोगों की सक्रियता अधिक है। बीते कुछ समय के दौरान चीन व नेपाल से लौटे कई लोगों को बीमार पाया गया है।

उल्लेखनीय है कि हाल ही में बिहार सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने पटना व सिवान के ऐसे दो संदिग्धों की पहचान की है, जो हाल ही में चीन से लौटे हैं। दोनों को गृह एकांतवास में रखा गया है।

स्टेट सर्विलांस अफसर डॉ. रागिनी मिश्रा के अनुसार यदि आवश्यकता पड़ी तो उनके सैंपल जांच के लिए पुणे की नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भेजे जाएंगे। अभी तक राज्‍य में कुल 22 संदिग्‍ध मामले मिले हैं।

अबतक किसी भी मरीज में कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं

बिहार में स्वास्थ्य विभाग ने 22 लोगों को सर्विलांस पर लिया है। इनमें सिवान, पश्चिम चंपारण, सारण, सीतामढ़ी, भोजपुर, गोपालगंज, सुपौल, मधेपुरा, भागलपुर और पटना के मरीज शामिल हैं।

ये कुछ दिनों के अंदर ही चीन या उसके आसपास के प्रांतों से लौटे हैं। राहत की बात यह है कि अभी तक किसी भी मरीज में कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं हुई है। इस बीच आम लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करने के लिए ग्राम सभाओं में जागरूकता कैंप लगाए जा रहे हैं।

विभिन्‍न जिलों में कोरोना के संदिग्ध मरीजों संख्या

पटना-3,पश्चिम चंपारण-3, सिवान-2, मधेपुरा-2, सीतामढ़ी-2, गोपालगंज-2, मधुबनी-2, गया-2, भागलपुर-1, सुपौल-1, सारण-1, भोजपुर-1


ख़बरें दबाव में हमेशा आपके हितों से समझौता करती रहेंगी। हमारी पत्रकारिता को हर तरह के दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

HELP US

news aroma